अंगीठी की गैस से दो भाइयों की मौत

– फैक्ट्री में करते थे मजदूरी, रात को कमरे में सोये, सुबह मृत मिले
बीकानेर। सर्दी से राहत पाने के लिए कमरे में रखी अंगीठी ने ही जान ले ली। अंगीठी की गैस से कमरे में सो रहे दो भाईयों की दम घुटने से मौत हो गई। शवों का पीबीएम में पोस्टमार्टम करवाया जा रहा है। घटना कोटगेट पुलिस थाना क्षेत्र की पांचवी रोड़ रानी बाजार इण्डस्ट्रीयल एरिया में स्थित पीपी इण्डस्ट्रीज की है।
पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार मृतकों की शिनाख्त 22 वर्षीय अर्जुन चौधरी व उसके भाई 22 वर्षीय राधेश्याम चौधरी के रूप में हुई। दोनों भाई मूल रूप से आसाम के रहने वाले थे। यहां पीपी इण्डस्ट्रीज में मजदूरी करते थे और फैक्ट्री में ही रहते थे। बीती रात दोनों भाई फैक्ट्री में चौकीदार के कमरे में सोने चले गये। रात को ठण्ड अधिक थी। ऐसे में उन्होंने ठण्ड से बचने के लिए अंगीठी (सिगडी) जला कर कमरे में रख ली। अंगीठी से अलाव तपने के बाद दोनों सो गये। कमरे का गेट बंद कर लिया। कमरे में कोई खिड़की नहीं थी। रात भर सिगड़ी की आग से गैस बनती रही और दोनों भाई सोते-सोते रह गये। देर सुबह तक दोनों भाईयों के नहीं उठने पर अन्य मजदूरों ने दरवाजा खटखटाया, तो अंदर से कोई प्रति उत्तर नहीं आया। आशंका होने पर मजदूरों ने दरवाजा तोड़ दिया। कमरे में रजाई में अर्जुन व राधेश्याम चारपाई पर मृत पड़े थे। फैक्ट्री मैनेजर की सूचना पर कोटगेट पुलिस मौके पर पहुंची। पुलिस ने शवों को पीबीएम अस्पताल में पहुंचाया। इनकी शिनाख्त होने पर पुलिस ने मृतकों की चचेरी बहन को सूचना देकर अस्पताल में बुलाया। यह बहन बीकानेर में रही रहती है। उसकी सहमति के बाद पुलिस ने पोस्टमार्टम शुरू करवाया। पुलिस ने बताया कि आसाम में परिजनों को सूचना दे दी गई है। वह वहां से बीकानेर के लिए रवाना हो गये हैं।