अगले चुनाव में 70 से ज्यादा विधायकों के टिकट काट सकती है भाजपा

भोपाल। अमित शाह के तीन दिवसीय प्रवास में दर्जनभर बैठक और कोरग्रुप के साथ हुए मंथन में पार्टी ने मिशन 2018 का जो रोडमैप तैयार किया है, उसका लक्ष्य साफ है हर कीमत पर मध्यप्रदेश में सरकार बनाना। पार्टी ने शाह के दौरे के साथ ही इसकी कवायद शुरू भी कर दी है। शाह के साथ हुए मंथन में मौजूदा 166 विधायकों के सर्वे और संगठन द्वारा तैयार खुफिया रिपोर्ट कार्ड की समीक्षा भी की गई। इसमें 70 से ज्यादा विधायकों को चुनाव जीतने लायक नहीं माना गया है। शाह की मौजूदगी में ही यह तय किया गया कि चार महीने में इन विधायकों के जमीनी हालत में सुधार नहीं होता है तो इनकी जगह नए प्रत्याशी की तलाश कर ली जाए। शाह ने ऐसे संकेत भी दिए कि वे जनवरी 2018 में होने वाले प्रवास में टिकट का क्राइटेरिया फाइनल कर देंगे। पार्टी के मंथन में प्राथमिक तौर पर यह भी विचार किया गया कि 5 और छह बार चुनाव जीत चुके विधायकों की जगह नए चेहरे को उतारा जाए और वह चेहरा मौजूदा विधायक की पसंद से ही तय कर लिया जाए ।