अधिकांश भारतीयों के लिए पैसे से ज्यादा खुशी बहुत अहम: सर्वे

मुंबई। हर इंसान चाहता है कि उसकी जिंदगी में सुख शांति और खुशियां हों, वैसे इन्हें आज के वक्त में पैसे से जोड़कर देखा जाता है लेकिन भारतीय ऐसा नहीं मानते। प्रोफेशनल नेटवर्किंग साइट लिंक्डइन के सर्वे के मुताबिक अधिकांश भारतीय धन से अधिक खुशी और सेहत को प्राथमिकता देते हैं। 6 देशों के 18,191 वयस्कों के बीच किए गए सर्वे में पाया गया कि भारतीय सफल होने की भावना के मामले में तीसरे नंबर पर है। भारत के पहले ब्राजील और सबसे ऊपर यूएई रहा। भारता के हालातों और चुनौतियों के बीच 10 प्रतिशत भारतीयों को एक साल में खुद की सफलता के प्रति आशान्वित पाया गया। जब अलग-अलग विकल्पों में से एक को चुनने की बारी आई तो 72 प्रतिशत भारतीयों ने खुश रहने को सफलता का पैमाना माना। वहीं 65 फीसदी ने अच्छी सेहत और 57 फीसदी ने स्वस्थ कार्य-जीवन संतुलन को अहमियत दी। जब पैसे की बात आई तो सिर्फ 22 प्रतिशत ने कहा कि वो अपनी सफलता को तब मानेंगे जब उनकी आय बढ़े वहीं 36 प्रतिशत ने माना कि उनकी सैलरी 6 अंकों में होने पर सफल महसूस करेंगे।