अबू सलेम को उम्रकैद, ताहिर और फिरोज को फांसी

– 1993 मुंबई बम ब्लास्ट मेें विशेष टाडा कोर्ट का फैसला
मुंबई। मुंबई की विशेष टाडा कोर्ट ने 1993 मुंबई बम ब्लास्ट के दोषियों की सजा का एलान कर दिया है। ताहिर मर्चेंट और फिरोज अब्दुल राशिद को फांसी और अंडरवल्र्ड डॉन अबू सलेम को उम्रकैद की सजा सुनाई गई है। थियार सप्लाई के आरोपी करीमुल्लाह खान को अदालत ने आजीवन कारावास की सजा के साथ 2 लाख रूपये का जुर्माना भी लगाया है। वहीं एक अन्य आरोपी रियाज सिद्दीकी को 10 साल की सजा सुनाई गई है।
फैसले के समय अबू सलेम सहित सभी दोषी अदालत में मौजूद थे। जिस दौरान जज सजा का ऐलान कर रहे थे, उस दौरान सलेम चुप खड़ा था. सजा का ऐलान होते ही अबू सलेम कोर्ट में बेंच पर बैठ गया। 12 मार्च साल 1993 को मुंबई में हुए इन 13 बम धमाकों में 257 लोग मारे गए थे और 700 से ज्यादा लोग घायल हो गए थे। मामले की सुनवाई में कोर्ट ने हत्या और साजिश के आरोप में अबु सलेम, मुस्तफा डोसा, उसके भाई मोहम्मद डोसा, फिरोज अब्दुल राशिद और ताहिर मर्चेंट, करीमुल्लाह शेख को दोषी करार दिया था। बता दें कि दोषी मुस्तफा डोसा की इसी साल 28 जून को कार्डियक अरेस्ट के चलते मौत हो चुकी है। कोर्ट ने अबु सलेम को मुंबई ब्लास्ट की साजिश रचने का दोषी पाया था। अबू सलेम पर हमले में हथियार और विस्फोटक मुंबई में लाने दोष साबित हुआ है। सुनवाई के दौरान जज ने ये भी कहा था कि सरकारी पक्ष ने अपने आरोप साबित कर दिए हैं।