BREAKING NEWS
Search

अब डेरा चेयरपर्सन विपासना भी लापता

सिरसा। डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम के कारनामों की सबसे बड़ी राजदार लापता हनीप्रीत को लेकर 23 दिन बाद जांच एजेंसियों के हाथ खाली हैं और इसी बीच डेरा की चेयरपर्सन विपासना इंसां भी लापता हो गई हैं। पुलिस की ओर से हिरासत में लिए जाने के डर से विपासना फरार हो गई है। पांच दिन से लगातार विपासना से संपर्क करने की कोशिश हो रही है लेकिन उसका मोबाइल नंबर बंद आ रहा है। ऐसे में इस शंका को बल मिलने लगा है कि हनीप्रीत को भगाने में सबसे बड़ी भूमिका डेरा चेयरपर्सन विपासना इंसां ने अदा की है। हनीप्रीत की तलाश में जुटी पंचकूला पुलिस सहित कई राज्यों की पुलिस को अब तक ये ही पता चल पाया है कि वह नेपाल चली गईए लेकिन यह ठोस जानकारी नहीं कि वह इस समय नेपाल में ही मौजूद है। डेरा चेयरपर्सन विपासना इंसां ही एक मात्र शख्स है जो ये बता सकती है कि असल में हनीप्रीत अब कहां और कैसी है। पुलिस सूत्रों के अनुसार विपश्यना का मोबाइल नंबर कई दिन से बंद होने के चलते यह पता चला है कि वो किसी दूसरे मोबाइल नंबर से अपने खास करीबियों के संपर्क में हैं। इसके अलावा यह भी पता चला है कि विपासना शुरू से ही हनीप्रीत के संपर्क में रही।
जांच एजेंसियों का शक उस पर न जाए इसलिए उसने मीडिया में हनीप्रीत को आत्म समर्पण करने की सलाह दी। डेरा अनुयायी रोहतक निवासी संजय चावला के खुलासे ने विपासना के झूठ से पर्दा उठा दिया। संजय चावला ने खुलासा किया कि डेरा चेयरपर्सन विपासना इंसां ने ही सुनारिया जेल से हनीप्रीत को लाने के उसे निर्देश दिए। इसके बाद 25 अगस्त की रात को विपासना ने अपने तीन लोगों को इनोवा गाड़ी लेकर भेजा। विसपना से मोबाइल पर बातचीत करने के बाद हनीप्रीत उक्त लोगों के साथ जाने को तैयार हुईं। इनोवा गाड़ी चालक प्रदीप ने संजय चावला को कहा कि वो हनीप्रीत को लेकर हिसार की ओर जा रहे हैं। इस खुलासे के बाद जांच की आंच के आने में डर से विपासना डेरा छोड़कर लापता हो गईं। पुलिस विपासना के मोबाइल की कॉल डिटेल खंगाल रही है। उसके बेहद करीबी लोगों से भी जानकारी जुटाई जा रही है।
मौजूद हैं 500 सेवादार
डेरा सच्चा सौदा मुख्यालय में करीब 500 सेवादार मौजूद हैं। डेरा मुखी को सजा होने के बाद से डेरा प्रबंधन का सारा कामकाज देख रही विपासना इंसां ने अपने इन पुराने वफादार सेवादारों के हवाले डेरा की देखभाल और कामकाज सौंप रखा है और खुद लापता हो गई है। शाह मस्ताना के छोटे डेरा में तो डेरा अनुयायियों का आना जाना लगा हुआ है लेकिन गुरमीत राम रहीम द्वारा बनाए गया 700 एकड़ में नए डेरे में खामोशी पसरी हुई है।