अब सोना जमा करने वालों पर निशाना साधेंगे नरेंद्र मोदी

pm-modiनई दिल्ली। भ्रष्टाचार और काले धन के खिलाफ लड़ाई बताते हुए केंद्र सरकार ने नोटबंदी का फैसला लिया था। वहीं अब सोना व्यापारियों के बीच एक नई अफवाह ने जोर पकड़ लिया है जिसकी  वजह से वह सोना आयत करने की फिराक में लगे हैं। समाचार एजंसी रॉइटर्स के अनुसार इन अफवाहों के मुताबिक सोना व्यापारियों को यह डर सता रहा है कि नोटबंदी के फैसले के बाद सरकार विदोशों से आयात  किए जाने वाले धातुओं जिनमें सोना में पहले नंबर पर है, के आयात को कम करने की कोशिश करेगी। सोना आयात करने में भारत दुनियाभर के देशों के मुकाबले में दूसरे नंबर पर है और एक अनुमान के मुताबिक सालाना 1000 टन तक के सोने की एक-तिहाई रकम का भुगतान काले धन के जरिए किया जाता है। इसके अलावा कई एक्सपट्र्स का भी अनुमान है कि सोने की खरीद-फरोख्त में बड़े पैमाने पर काले धन का इस्तेमाल होता है। प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने नोटबंदी के फैसले के बाद काला धन रखने वालों को चेताया था कि आगे और भी बड़ी कार्रवाई होंगी। इसी चेतावनी के डर से बड़े व्यापारी सोने की खरीद में लग गए हैं जिससे कि जरूरत पडऩे पर काम ले सके। सोना व्यापारियों के बीच यह अफवाह आम है कि मोदी सरकार अगले साल की शुरुआत से घरेलू इस्तेमाल वाले सोने के आयात पर बैन लगा दे। ऐसी कोई अफवाह अगर सच निकली तो शादियो के सीजन में यह सोना व्यापारियों को काफी नुकसान पहुंचा सकता है। सूत्रों के हवाले से मिली जानकारी के मुताबिक कई सोना व्यापारियों का यह दावा है कि उनके पास सोने की खरीद के लिए लगातार फोन आ रहे हैं। नोटबंदी की घोषणा होने के बाद ही सोने के दामों में अचानक बड़ा उछाल आया था। उस दौरान सोने की कीमत सर्राफा बाजार में 45 हजार रुपये प्रति तोले तक पहुंच गई थी।