अशोक गहलोत के भाई पर उर्वरक घोटाले का आरोप

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी ने वरिष्ठ कांग्रेस नेता अशोक गहलोत के भाई पर यूपीए शासन के दौरान उर्वरक घोटाले में शामिल होने का आरोप लगाया है. भाजपा ने अपने आरोप में कहा है कि राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के भाई की कंपनी ने कथित रूप से सब्सिडी वाले उर्वरक का निर्यात किया, जो घरेलू उपभोग के लिए था। इस मुद्दे पर कांग्रेस पर हमला करते हुए वरिष्ठ भाजपा नेता और केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि कांग्रेस पार्टी ‘भ्रष्टाचार का पर्याय हैÓ. एक मीडिया रिपोर्ट का हवाला देते हुए प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि केंद्र सरकार से सब्सिडी का दावा करने के बाद यूपीए शासनकाल के दौरान अशोक गहलोत के भाई अग्रसेन गहलोत की कंपनी ने देश के किसानों के लिए आयात किए जाने वाले उर्वरक, पोटाश के मूरेट का निर्यात किया था।
जावड़ेकर ने कहा, यह सब्सिडी की चोरी का एक स्पष्ट मामला है और यह सब 2007 से 2009 के बीच हुआ, जब कांग्रेस नेतृत्व वाली यूपीए केंद्र में सत्ता में थी. उस समय अशोक गहलोत राजस्थान के मुख्यमंत्री थे. जिस तरह सस्ती दर पर उर्वरक का निर्यात किया गया था। उससे संदेह उठाता है कि यह मनी लॉन्ड्रिंग का मामला हो सकता है. जावड़ेकर ने कहा कि उर्वरक घोटाले का यह मामला कस्टम अधिकारियों के द्वारा माल के पकड़े जाने के बाद जानकारी में आया, क्योंकि पोटाश घरेलू खपत के लिए मान्य है और इसका निर्यात प्रतिबंधित है. उन्होंने कहा, एक ओर कांग्रेस और उसके नेता किसान और उनके मुद्दों के बारे में बात करते हैं, लेकिन दूसरी ओर उनकी पार्टी के गुजरात प्रभारी के रिश्तेदार किसानों की सब्सिडी की चोरी कर रहे हैं.