BREAKING NEWS
Search

आयकर विभाग की एनओसी के बिना नहीं होगा सम्पत्ति का हस्तांतरण

– उप पंजीयक कार्यालय ने किया स्पष्ट
श्रीगंगानगर। वित्तीय संस्थानों के कर्ज तले दबे राजेन्द्र कुमार वधवा उर्फ चिंटू की सम्पत्ति को बैंक भले ही वसूली के इरादे से नीलाम कर दे, लेकिन उप पंजीयक कार्यालय आयकर विभाग की एनओसी के बिना हस्तांतरण नहीं करेगा।
पिछले कुछ समय से बैंकों में ऋण के बदले गिरवी रखी चिंटू वधवा की सम्पत्ति को नीलाम करने की तैयारियां की जा रही हैं। बैंक चिंटू की कुछ सम्पत्ति को सरफेसी एक्ट में कुर्क भी कर चुका है और अब इसी एक्ट की धारा 26 ई के तहत ऋण वसूली के लिए प्रोपर्टी नीलामी की कार्यवाही की तैयारी किए हुए है। लेकिन बैंक की इस सारी कवायद पर आयकर विभाग द्वारा चिंटू वधवा से 3.41 करोड़ रुपये बकाया कर की वसूली के लिए आयकर की धारा 281 के तहत उप पंजीयक कार्यालय को दिये पत्र से पानी फिरता नजर आ रहा है। हालांकि आयकर विभाग के अधिकारी यह भी कह रहे हैं कि बैंक ऋणी से वसूली के लिए उसकी सम्पत्ति को नीलाम कर सकता है। आयकर विभाग अन्य तौर-तरीकों से भी बकाया कर की वसूली कर सकता है। विभागीय सूत्रों के अनुसार राजेन्द्र कुमार उर्फ चिंटू वधवा भविष्य में जहां कहीं भी कारोबार करेगा या सम्पत्ति की खरीद-फरोख्त करेगा, वह आयकर विभाग की निगाह में रहेगा।
बैंक तो सरफेसी एक्ट के तहत बकायादार की सम्पत्ति नीलाम कर वसूली के अधिकारों का दावा कर रहा है, साथ ही बैंक के अधिकारियों का कहना है कि चिंटू की सम्पत्ति नीलाम करने के बाद बैंक का बकाया पूरा होने पर शेष राशि आयकर विभाग के सुपुर्द कर दी जायेगी, ताकि बकाया कर भी चुकता हो जाये। लेकिन उपपंजीयक कार्यालय ऐसी सम्पत्ति के हस्तांतरण को तैयार नहीं है। उप पंजीयक सुमित्रा बिश्नोई का कहना है कि जब तक आयकर विभाग या सक्षम न्यायालय इस मामले में एनओसी नहीं देगा, तब तक बैंकों द्वारा नीलाम की गई चिंटू वधवा की सम्पत्ति का हस्तांतरण किसी अन्य के नाम पर नहीं किया जायेगा।
बैंक का 25 करोड़ बकाया
राजेन्द्र कुमार वधवा उर्फ चिंटू पर पंजाब नैशनल बैंक से ऋण पेटे लिये राशि ब्याज सहित करीब 25 करोड़ रुपये बकाया है। इसमें से 12 करोड़ रुपये श्रीगंगानगर स्थित बैंक की ब्रांच व इतनी ही राशि पीएनबी की जयपुर स्थित शाखा की बताई जा रही है। यह सारा ऋण बैंकों द्वारा चिंटू को उसकी सम्पत्ति गिरवी रख कर दिया गया। अब यही गिरवी सम्पत्ति कुर्क कर बैंक नीलाम करना चाहता है।