इस बार गणतंत्र दिवस रचेगा इतिहास

– विदेशी मेहमानों की सुरक्षा के लिए पर्याप्त प्रबंध
नई दिल्ली। इस बार गणतंत्र दिवस के मौके पर आसियान देशों के 10 प्रमुखों की मौजूदगी नया रिकॉर्ड बनाने जा रही है। ऐसा पहली बार होगा कि गणतंत्र दिवस पर एक साथ इतने सारे नेता मुख्य अतिथि के तौर पर परेड समारोह में शामिल होंगे। अगले हफ्ते होने वाली गणतंत्र दिवस परेड के लिए 100 से अधिक सरकारी एजेंसियों को सुरक्षा के मद्देनजर तैनात किया जाएगा। सुरक्षा प्रतिष्ठान के लिए एक बड़ी चुनौती न केवल विदेशी गणमान्य व्यक्तियों की रक्षा करना होगी बल्कि यह भी उन्हें सुनिश्चित करना होगा कि वे राजपथ (परेड स्थल) पर समय पर पहुंचें। जहां प्रधानमंत्री अपने विदेशी गणमान्यों का स्वागत करने के लिए इंतजार कर रहे होंगे।
10 आसियान देशों के प्रमुखों का होगा स्वागत : गणतंत्र दिवस के मौके पर भारत आसियान के सदस्य- थाईलैंड, वियतनाम, इंडोनेशिया, मलेशिया, फिलीपींस, सिंगापुर, म्यांमार, कंबोडिया, लाओस और ब्रुनेई के प्रमुखों का स्वागत करेगा। विदेशी मेहमानों की सुरक्षा के लिए पूरे मंच को बुलेटप्रूफ ग्लास से कवर किया जाएगा, जिसकी चौड़ाई करीब 100 फीट होगी। जो कि पिछले वर्ष की तुलना में तीन गुना ज्यादा चौड़ा होगा। एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, ‘मेहमानों की रूकने की व्यवस्था ताज पैलेज, ताज मानसिंह, मौर्या शेरेटन, लीला पैलेस और ओबेरॉय होटल में की गई है। इसलिए हमें हर एक नेता के समय को सुनिश्चित करना होगा। प्रत्येक नेता का काफिला लगभग 9 लग्जरी गाडिय़ों का होगा। मेहमानों के स्वागत के लिए गाडिय़ों का अभ्यास हर सुबह होता है और ड्राइवरों को भी सब कुछ समझा दिया गया है।Ó