BREAKING NEWS
Search

एआरएस को कृषि अनुसंधान संस्थान बनायेंगे : उपकुलपति

– किसानों को सभी तरह के प्रमाणित बीज उपलब्ध होंगे
– कृषि अनुसंधान केन्द्र में बीज विधायन इकाई का शिलान्यास
श्रीगंगानगर। कृषि अनुसंधान केन्द्र में आज राष्ट्रीय खाद्य मिशन व बीज हब परियोजना के अंतर्गत बीज विधायन इकाई का शिलान्यास कृषि विवि बीकानेर के कुलपति डॉ. बीआर छीम्पा द्वारा विधिवत रूप से किया गया। इस मौके पर उन्होंने कहा कि श्रीगंगानगर कृषि अनुसंधान केन्द्र को कृषि अनुसंधान संस्थान बनाने के लिए वे प्रयास करेंगे, ताकि इसका फायदा सभी को मिल सके।
उन्होंने अपने सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देश दिये कि वे इसे संस्थान बनाने का प्रस्ताव तैयार करें। उन्होंने कहा कि इलाके के किसानों को बीज विधायन केन्द्र से आने वाले दिनों मेें सभी तरह के प्रमाणित बीज उपलब्ध हो सकेंगे। इससे किसानों का उत्पादन और बढ़ेगा। उन्होंने कहा कि कृषि अनुसंधान केन्द्र में कृषि वैज्ञानिकों व अन्य फैकल्टी में पद रिक्त पड़े हैं, उन्हेें भी भरने के लिए द्वितीय स्तर पर कार्रवाई शुरू कर दी गई है और दो महीने मेें लगभग रिक्त पदों पर नियुक्ति कर दी जायेगी। उन्होंने कहा कि 18 फरवरी से 26 फरवरी तक द्वितीय फेज में नियुक्ति की प्रक्रिया करनी है, इसके बाद तीसरा फेज शुरू किया जायेगा। कृषि विश्वविद्यालय खोलने के सवाल पर उपकुलपति ने कहा कि सरकार ने यदि चाहा तो यह भी कार्य सम्पन्न होगा। पशुपालन के क्षेत्र में भी इलाके के पशुपालक किसानों को आत्मनिर्भर बनाया जायेगा। उन्होंने कृषि अनुसंधान केन्द्र के क्षेत्रीय निदेशक उम्मेद सिंह शेखावत, वैज्ञानिक विजयप्रकाश के कार्यांे की भरपूर प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि चने के क्षेत्र में यहां के वैज्ञानिकों ने पूरे भारत में ख्याति प्राप्त की है। कार्यक्रम के बाद डॉ. बीआर छीम्पा को सम्मानित किया गया।
इस मौके पर डॉ. पीएल नेहरा निदेशक अनसुंधान बीकानेर, डॉ. मदनमोहन वर्मा डायरेक्टर बीकानेर, डॉ. दशरथ सिंह, डॉ. आरपीएस चौहान, डॉ. बीआर गोदारा, प्रो. जीएम माथुर, एसके बैरवा, केवीके प्रभारी डॉ. हनुमानराम विशेष रूप से उपस्थित थे। डॉ. नेहरा व डॉ. मदनमोहन वर्मा का भी साफा पहनाकर सम्मान किया गया।