करवा चौथ का शुभ मुहूर्त पर इन बातों का रखें ध्यान

कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को सुहागिन स्त्रियों के द्वारा करवा चौथ का व्रत किया जाता है। मान्यता है कि इस दिन यदि सुहागिन स्त्रियों के उपवास रखने से उनके पति की उम्र लंबी होती है और उनका गृहस्थ जीवन सुखद होने लगता है।
करवाचौथ का व्रत सुबह 4 बजे से शुरु होता है, जो रात में चंद्रमा को देखने के बाद खोला जाता है। इस दिन भगवान शिव, माता पार्वती और भगवान श्री गणेश की पूजा की जाती है और करवाचौथ की व्रत की कथा सुनी जाती है। सामान्यत: विवाहोपरांत 12 या 16 साल तक लगातार इस उपवास को किया जाता है।
मगर, इच्छानुसार सुहागिन स्त्रियां चाहें तो आजीवन इस व्रत को रख सकती हैं। माना जाता है कि पति की लंबी उम्र के लिए इससे श्रेष्ठ कोई उपवास नहीं है।
व्रत का मुहूर्त
करवा चौथ पूजा का मुहूर्त शाम 17:55 से लेकर 19:09 बजे तक है। जबकि चंद्रोदय रात 20:14 मिनट पर होगा। चतुर्थी तिथि 8 अक्टूबर को शाम 16:58 बजे से शुरू होगी, जो अगले दिन 9 अक्टूबर को दोपहर 14:16 मिनट तक रहेगी।
इन बातों का रखें ध्यान
व्रत रखने वाली स्त्री को काले और सफेद कपड़े पहनने से बचना चाहिए। इस दिन लाल और पीले रंग के कपड़े पहनना विशेष फलदायी होता है।
इस दिन महिलाओं को चाहिए कि वे पूर्ण श्रृंगार करें और अच्छा भोजन खाएं। इस दिन पति की लंबी उम्र के साथ संतान सुख भी मिल सकता है।