कर्नाटक में कुर्सी पर भाजपा काबिज

– भाजपाइयों ने मनाया जश्न, कांग्र्रेसियों ने किया प्रदर्शन
– बीएस येदियुरप्पा ने ली मुख्यमंत्री पद की शपथ
बेंगुलुरू। कर्नाटक में चले नाटक के बाद आज भारतीय जनता पार्टी ने सरकार बना ही ली। मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा को राजभवन में राज्यपाल वजूभाई वाला ने पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई। उन्हें कर्नाटक विधानसभा में बहुमत साबित करने के लिए 15 दिन का समय मिला है।
येदियुरप्पा ने कर्नाटक के 25वें मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ली। यह तीसरी बार है जब येदियुरप्पा को कर्नाटक के मुख्यमंत्री की कुर्सी मिली है।
येदियुरप्पा के स्वागत के लिए राजभवन के बाहर जबरदस्त तैयारियां की गई। जगह-जगह ढोल-नगाड़े बज रहे थे। आज सिर्फ येदियुरप्पा ने ही शपथ ली। मंत्रिमंडल का शपथग्रहण विधानसभा में फ्लोर टेस्ट के बाद होगा।
वहीं इससे पहले कर्नाटक का नाटक सुप्रीम कोर्ट में रात को भी चला। सुप्रीम कोर्ट ने कांग्रेस की शपथ को टालने की मांग मानने से इनकार कर दिया। कोर्ट ने फैसले में कहा कि वे राज्यपाल को आदेश नहीं दे सकते और शपथ पर रोक नहीं लगाई जा सकती।
कांग्रेस के चार विधायक लापता
इस बीच, कांग्रेस के चार विधायक लापता बताए जा रहे हैं। टीवी चैलनों के मुताबिक, ये विधायक बैठक में नहीं पहुंचे थे और रिसोर्ट में भी नहीं थे। हालांकि मैंगलुरू से गुरुवार को विधानसभा पहुंचे कांग्रेस विधायक खाडेर का कहना है कि सभी विधायक साथ हैं।
वहीं भाजपा नेता अनंत कुमार का कहना है कि कांग्रेस नेताओं को विरोध प्रदर्शन करना है तो राहुल गांधी, सोनिया गांधी और सिद्धारमैया के खिलाफ करना चाहिए, जिनके कारण कांग्रेस हारी है।
गहलोत की मौजूदगी में कांग्रेसियों ने किया प्रदर्शन
येदियुरप्पा के शपथ ग्रहण से जहां भाजपा खेमे में खुशी की लहर है, वहीं राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत तथा गुलाम नबी आजाद की मौजूदगी में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने विरोध प्रदर्शन किया। अब तक रिसोर्ट में रखे गए कांग्रेस और जेडीएस विधायकों ने भी विधानसभा के बाहर प्रदर्शन किया।
येदियुरप्पा के शपथ ग्रहण से ठीक पहले कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्विट किया कि कर्नाटक में भाजपा के पास पर्याप्त संख्याबल नहीं है, फिर भी सरकार बनाना संविधान का मजाक है। भाजपा चाहे जश्न मना ले, लेकिन देश संविधान की हार का शोक मनाएगा।