कश्मीर में सीमा पर गोलाबारी से युद्ध जैसे हालात

– श्रीगंगानगर, बीकानेर जिलों मेंं बॉर्डर पर सतर्कता बढ़ाई
– जवान शहीद, नागरिकों की मौत, जवाबी कार्रवाई जारी
जम्मू/श्रीगंगानगर। जम्मू संभाग में अंतर्राष्ट्रीय सीमा से लेकर नियंत्रण रेखा पर पाकिस्तान की ओर से गोलाबारी जारी है। 18 सेक्टरों में पाकिस्तान की ओर से की जा रही भारी गोलाबारी से युद्ध जैसे हालात बन गए हैं। पाकिस्तान ने 50 से ज्यादा चौकियों और 100 से अधिक गांवों पर जमकर मोर्टार दागे। पाकिस्तान कई चौकियों और रिहायशी इलाकों को निशाना बना रहा है। इसमें दो और लोगों की मौत हो गई जबकि एक दर्जन के करीब लोग घायल हो गए। एलओसी पर तनाव के कारण श्रीगंगानगर, बीकानेर, बाड़मेर और जैसलमेर जिलों में भारत-पाक बॉर्डर पर सतर्कता बढ़ा दी गई है। बीएसएफ के जवान पूरी तरह मुस्तैद हैं।
कश्मीर में अब तक तीन जवानों सहित आठ की मौत हो चुकी है। पैंतीस के करीब लोग घायल हो गए हैं। वहीं अखनूर सेक्टर में भी सभी स्कूलों को बंद कर दिया है। सीमावर्ती क्षेत्रों से लोगों का पलायन जारी है। गोलाबारी में कई जानवर भी मारे गए हैं। पाकिस्तान ने कल पूरी रात गोलाबारी जार रखी। शनिवार की सुबह अरनिया सेक्टर में कुछ देर के लिए गोलाबारी जरूर थमी लेकिन जैसे ही कुछ लोगों ने गांवों का रुख किया। फिर से गोलाबारी शुरू हो गई। वहीं रामगढ़ सेक्टर में दो लोगों की मौत हो गई। सुबह करीब साढ़े नौ बजे कपूरपुर में पंद्रह साल के किशोर गारा राम निवासी कपूरपुर की मौत हो गई। इसी जगह पर दो अन्य लोग भी घायल हुए हैं। इसी सेक्टर में दोपहर करीब बार बजे गार सिंह पुत्र खुशविंद्र सिंह की भी गोलाबारी में मौत हो गई। इसमें पांच अन्य लोग घायल भी हो गए। तनाव कम करने के मकसद से बीएसएफ और रेंजर्स की 22 जनवरी को बैठक होगी।