कागज के कप में भूलकर भी न पीएं चाय

अगर आप अपने ऑफिस, अस्पताल या फिर शादी-पार्टियों में प्लास्टिक या पेपर कप में चाय-कॉफी पीते हैं तो आपके लिए चौंकाने वाली खबर है। जिस चाय या कॉफी के प्याले को आप सुरक्षित मान रहे हैं, वास्तव में वह बेहद खतरनाक है। सुविधा को लेकर भले ही बाजार में प्लास्टिक, थर्माकोल, पेपर कप्स लोकप्रिय हों लेकिन ये डिस्पोजल कप स्वास्थ्य के लिए खतरा है। ये 52 तरह के कैंसर का कारण बन सकते हैं।
अगर कोई प्लास्टिक कप को नुकसानदायक मानकर पेपर कप में पीना शुरू कर रहा है तो उन्हें भी फिर सोचने की जरूरत है क्योंकि ये पेपर कप भी कम खतरनाक नहीं है। पेपर के कपों में चाय या फिर कोई भी गर्म चीज का इस्तेमाल करना स्वास्थ्य के दृष्टिकोण के सही नहीं हैं।
कप से रिसाव को रोकने के लिए मैन्यूफैक्चरर्स इन कपों को वैक्स की पतली परत लगाते हैं और जब आप इसमें गर्म चाय या कॉफी डालते हैं तो इन डिस्पोजल कपों से कुछ वैक्स भी साथ पी जाते हैं।
विशेषज्ञों के मुताबिक, पेट में मौजूद एसिड मामूली मात्रा को तो त्याग देते हैं लेकिन बड़ी मात्रा में जमा होने पर आंतों में बाधा पैदा होती है।
इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ केमिकल टेक्नोलॉजी के पॉलिमर और फंक्शनल मटेरियल डिवीजन के साइंटिस्ट के मुताबिक, ‘निर्माण प्रक्रिया के दौरान वैक्स की पतली परत छिड़की जाती है। पॉलिथीन और पैराफिन को कागज के तरल पदार्थ को अवशोषित करने से रोकने में उत्पाद की स्थायित्व को बनाए रखने के लिए उपयोग किया जाता है। पेपर कप तैयार करने के लिए निर्धारित दिशानिर्देश हैं- वैक्स की परत की मोटाई कम से कम होनी चाहिए, और जब उत्पाद पानी में भिगोया जाता है, तो उसे किसी भी विषैले तरल को रिलीज नहीं करना चाहिए। हालांकि, ज्यादातर निर्माता गुणवत्ता और गुणवत्ता की जांच के बिना खुदरा विक्रेताओं तक पहुंचाते हैं।Ó
इसलिए इस तरह के कप में कॉफी या चाय लेने से बचें और सिरेमिक मग या कांच के कप में या साधारण स्टेनलेस स्टील कांच में ही पिएं।