Search

कामिनी पर दांव खेल सकती है भाजपा!

– मेडिकल कॉलेज के मुद्दे पर सरकार के रुख में बदलाव से सुगबुगाहट शुरू
श्रीगंगानगर। उप चुनावों में करारी हार के बाद चेती भाजपा श्रीगंगानगर में विधानसभा चुनाव में जमींदारा पार्टी की विधायक कामिनी जिंदल को अपना उम्मीदवार बना सकती है। भाजपा ने जिस प्रकार पूर्व मंत्री राधेश्याम गंगानगर पर दांव खेला था, अब वैसा ही दांव भाजपा कामिनी पर खेल सकती है। पिछले दो दिन से मेडिकल कॉलेज के मुद्दे पर जिस तरह घटनाक्रम चल रहा है, उसके दृष्टिगत इस आशय की चर्चाएं फिजां में तैरना शुरू हो गई हैं। राजनीतिक गलियारों में चल रही सुगबुगाहटों पर गौर करें तो मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने श्रीगंगानगर सीट जीतने के लिए अपना पूरा ध्यान कामिनी जिंदल पर केन्द्रीत कर दिया है।
हफ्ते-दस दिन पहले मेडिकल कॉलेज को लेकर सकारात्मक रवैया न सरकार का नजर आ रहा था और न ही जिला कलक्टर का। कल दोपहर तक खान राज्य मंत्री सुरेन्द्रपाल सिंह टीटी का रवैया भी सबने देखा।
उन्होंने साफ शब्दों में कह दिया कि मेडिकल कॉलेज को लेकर किया गया एमओयू किसी भी सूरत में बढ़ाया नहीं जाएगा लेकिन इसके विपरीत शाम होते-होते हालात बदलते चले गए। बीडी अग्रवाल की बात तक सुनने के लिए राजी न होने वाले जिला कलक्टर का रवैया बदल गया। सरकार का संकेत मिलते ही वे जयपुर रवाना हो गए।
सुगबुगाहटों के अनुसार उप चुनाव में हार से चिंतित मुख्यमंत्री अब प्रदेश की एक-एक सीट के बारे में मंथन कर रही हैं। कौनसी सीट-कैसे जीती जा सकती है, इस पर गौर किया जा रहा है। प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र में नफे-नुकसान वाले मुद्दे भी खंगाले जा रहे हैं। श्रीगंगानगर में मेडिकल कॉलेज का निर्माण बड़ा मुद्दा है। बीडी अग्रवाल इसे बनाने को भी तैयार हैं। सुगबुगाहटों के अनुसार सरकार कॉलेज के मुद्दे को अब गंभीरता से ले रही है।
प्रबल संभावना है कि सरकार मेडिकल कॉलेज के निर्माण में आ रही तमाम बाधाओं को दूर कर दे। मेडिकल कॉलेज का निर्माण शुरू होने पर इसका श्रेय जमींदारा पार्टी को मिलना तय माना जा रहा है। ऐसे मेंं भाजपा चुनाव में कामिनी जिंदल को बेहतरीन प्रत्याशी के रूप में देख रही है। यह बात अलग है कि जमींदारा पार्टी और कामिनी जिंदल इस विषय में क्या सोचते हैं।
मेडिकल कॉलेज के मुद्दे पर आज शाम तक काफी कुछ तय हो जाने की उम्मीद है। कल तक एमओयू नहीं बढ़ाने का ऐलान करने वाले खान मंत्री सुरेन्द्रपाल सिंह टीटी का नया बयान भी शाम तक आ जाए तो कोई आश्चर्य नहीं होना चाहिए। इस बीच लोगों को आज दोपहर बाद तीन बजे जयपुर में मेडिकल कॉलेज के मुद्दे पर होने वाली बैठक के नतीजे का इन्तजार है। बैठक में मेडिकल कॉलेज को लेकर महत्वपूर्ण निर्णय हो सकता है।