कुलभूषण की मुलाकात पर बोले दोस्त- ‘मां को गले तो लगाने देता पाक

मुंबई। पाकिस्तान में कैद कुलभूषण जाधव सोमवार को अपनी मां और पत्नी से मिले। हालांकि, दोनों के बीच कांच की दीवार थी और एक मां अपने बेटे को गले तक नहीं लगा सकी। बचपन के मित्र ने इस बात पर निराशा जताई कि पाकिस्तानी अधिकारियों ने परिवार के सदस्यों को उसे गले लगाने का मौका नहीं दिया। नौसेना के पूर्व अधिकारी की मां और पत्नी के साथ हुई मुलाकात में शीशे की दीवार थी, दोस्तों, पड़ोसियों और रिश्तेदारों ने कहा है कि रिहाई और उनकी घर वापसी की लड़ाई जारी रहेगी। मुंबई के परेल इलाके में रहने वाले जाधव के बचपन के दोस्त तुलसीदास पवार ने टीवी पर जाधव की मां अवंतिका और उनकी पत्नी चेतना को शीशे के दो तरफ बैठे हुए देखा। पवार ने कहा, आप कल्पना कर सकते हैं कि एक मां जिसने दो साल पहले बेटे को देखा था, शीशे की दीवार में कैद बेटे को देख उन पर क्या बीती होगी। वह उसे छू भी नहीं सकती थी। पाकिस्तानी अधिकारियों को मां को अपने बेटे को गले लगाने की अनुमति देनी चाहिए थी