केन्द्रीय मंत्री ने उड़ाया धर्मनिर्पेक्षतावादियों का मजाक, कहा- अब संविधान बदलना पड़ेगा

मुम्बई। केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार हेगड़े ने धर्मनिरपेक्षता वादियों का मजाक बना कर फिर विवाद पैदा कर दिया है। उन्होंने कहा कि ऐसी ताकतों का अपने खानदान तक का पता नहीं है। यदि आप धर्मनिरपेक्ष होने का दावा करते हैं, तो यह संदेह पैदा होता है कि आप कौन हैं हेगड़े ने कहा कि वह संविधान का सम्मान करते हैं, लेकिन आने वाले दिनों में इसे बदलना पड़ेगा। पांच बार के लोकसभा सांसद और केंद्रीय मंत्री के इस बयान पर मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने कड़ा ऐतराज जताया है। कर्नाटक के मुख्यमंत्री ने बयान की निंदा करते हुए कहा कि भाजपा नेता संसदीय और राजनीतिक भाषा नहीं जानते हैं। दक्षिणी राज्य में कुछ ही महीने बाद विधानसभा का चुनाव होना है। 49 वर्षीय हेगड़े ने कहा कि एक नया चलन शुरू हो गया है, जिसमें लोग खुद को धर्मनिरपेक्ष बताने की कोशिश करते हैं। उन्होंने दृढ़तापूर्वक कहा कि उन्हें खुशी होती यदि लोग खुद को गर्व से कहते कि वह मुस्लिम हैं या ईसाई हैं या लिंगायत, ब्राह्मण या हिंदू हैं। केंद्रीय कौशल विकास एवं एंटरप्रेन्योरशिप मंत्री ने कहा इससे कम से कम लोगों को अपने वंश के बारे में पता तो रहता है, लेकिन पता नहीं उन्हें क्या कहें, जो खुद को धर्मनिरपेक्ष होने का दावा करते हैं। ऐसे लोगों को अपने खून का पता नहीं रहता और उनकी कोई पहचान नहीं होती। एक कार्यक्रम में उन्होंने कहा कि वह मैं आपके सामने शीश झुकाता हूं, क्योंकि आप अपने खून के बारे में सजग हैं। विवादों से हेगड़े का पुराना नाता है। हाल ही में सिद्धारमैया के खिलाफ कथित अपमानजनक भाषा का इस्तेमाल करने पर उनके खिलाफ केस दर्ज किया गया था। इससे पहले कथित रूप से इस्लाम को आतंकवाद से जोडऩे पर उनके खिलाफ केस दर्ज हो चुका है।