कैबिनेट के 20 बड़े फैसले: कर्मचारियों की सैलरी बढ़ी, 330 दवाएं फ्री, निकली बंपर नौकरियां

शिमला। हिमाचल सरकार की मंगलवार को हुई कैबिनेट बैठक में कई बड़े फैसले लिए गए हैं। सरकार ने नौकरियों का पिटारा तो खोला ही। साथ ही कर्मचारियों पर भी पैसा बरसाया है। हिमाचल में इस वर्ष होने वाले विधानसभा चुनाव में सरकार ने पंचायत चौकीदारों को रिझाने की कोशिश की है। वर्ष 2016 – 17 बजट भाषण में 300 रुपये की बढ़ोतरी के बाद सरकार ने मंगलवार को कैबिनेट की बैठक में चौकीदारों के मानदेय में 700 रुपये की और बढ़ोतरी की है। पंचायत चौकीदारों के मानदेय में बढ़ी हुई दोनों राशि एक साथ मिलेगी। बताया जा रहा है कि अगले महीने से पंचायत चौकीदारों के खाते में 1000 रुपये बढ़कर आएगा। पंचायत राज विभाग से मिली जानकारी के मुताबिक हिमाचल में 3226 पंचायत चौकीदार है। वर्तमान में इन चौकीदीरों को 2350 रुपये प्रति माह मानदेय मिलता था। अब उन्हें अगले महीने से 3050 रुपये मासिक मानदेय मिल सकता है। चौकीदार एसोसिएशन लगातार प्रदेश सरकार ने मानदेय बढ़ाने की मांग कर रहे थे। इसको लेकर कई बार एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह और पंचायती राज मंत्री से भी मिले थे। गौरतलब है कि पंचायत में चपड़ासी की कमी है। चौकीदारों से ही यह काम लिया जा रहा है। हिमाचल सरकार ने कंप्यूटर शिक्षकों का वेतन फिक्स करने का फैसला लिया है। हालांकि शिक्षा विभाग द्वारा मंत्रिमंडल की बैठक में इस संबंध में कोई भी प्रस्ताव नहीं लाया गया था। मंत्रिमंडल ने स्वयं यह फैसला लिया। अब मंत्रिमंडल की मंजूरी का नोट जारी होने पर मामला वित्त और शिक्षा विभाग के पास जाएगा। देखना दिलचस्प होगा कि वित्त महकमा चुनावी साल में मंत्रिमंडल के फैसले पर क्या प्रतिक्रिया देता है। उधर, मंत्रिमंडल ने फैसला लिया है कि कंप्यूटर शिक्षकों को अब फिक्स वेतन मिलेगा। इसके तहत 5 वर्ष से अधिक सेवाएं दे रहे कंप्यूटर शिक्षकों को दस हजार रुपये, 10 वर्ष तक वालों को 12500 रुपये और 10 वर्ष से अधिक समय से सेवाएं दे रहे शिक्षकों को 15000 रुपये मिलेंगे।