BREAKING NEWS
Search

‘खबरों’ में रहना पसंद हैं तो परफेक्ट रहेगा यह करियर

वर्तमान समय में मास कम्युनिकेशन के क्षेत्र में करियर के नए, बेहतर अवसर पैदा होने के कारण इसमें करियर बनाने वाले युवाओं की संख्या बहुत तेजी से बढ़ रही है। यह क्षेत्र चुनौतियों से भरा हुआ है और इस क्षेत्र में काम करने वाले व्यक्ति की पहचान भी भीड़ से हटकर बनती है।
यदि आप कुछ अलग करना चाहते हैं, तो मास कम्युनिकेशन के क्षेत्र में करियर की नई ऊंचाइयों को छू सकते हैं। समाचार पत्र-पत्रिकाओं की दुनिया हो या इलेक्ट्रॉनिक मीडिया, रेडियो की आवाज का जादू हो या फिर वेब-जर्नलिजम का संसार हो, सभी क्षेत्र उत्साही, योग्य व परिश्रमी युवाओं को करियर के अच्छे अवसर प्रदान कर रहे हैं।
वेब मीडिया का उभार
प्रिंट व इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के अलावा मास कम्युनिकेशन के नए क्षेत्र के रूप में वेब मीडिया बहुत तेजी से उभर रहा है। वेब मीडिया के अस्तित्व में आने से मीडिया का क्षेत्र बहुत विस्तृत हो गया है। समाचारों व सूचनाओं के वर्तमान दौर में वेब मीडिया एक नया माध्यम बन गया है। आजकल प्रत्येक प्रतिष्ठित समाचार चैनल और अखबार की अपनी वेबसाइट है। कुछ स्वतंत्र वेबसाइट्स ने भी पाठकों तक अपनी मजबूत पकड़ बना ली है। वर्तमान समय में वेबसाइट्स में खबरों को पाठकों तक जल्दी-से-जल्दी पहुंचाने की होड़-सी मची हुई है।
ये कोर्स करें
मास कम्युनिकेशन में करियर बनाने के लिए इस क्षेत्र से जुड़े कोर्स करना बहुत उपयोगी रहता है। मास कम्युनिकेशन में बैचलर डिग्री के लिए न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता 12वीं पास होना है तथा पोस्ट ग्रेजुएट कोर्स के लिए किसी भी विषय में ग्रेजुएट होना जरूरी है। कुछ संस्थान मास कम्युनिकेशन में एक वर्षीय व छह माह का सर्टिफिकेट कोर्स भी चला रहे हैं। यदि आप इस क्षेत्र में सफल करियर बनाना चाहते हैं, तो ग्रेजुएट-पोस्ट ग्रेजुएट कोर्सों को प्राथमिकता दी जानी चाहिए। हमारे देश में मास कम्युनिकेशन के क्षेत्र में ये कोर्स किए जा सकते हैं- बैचलर डिग्री इन मास कम्युनिकेशन, पीजी डिप्लोमा इन ब्रॉडकास्ट जर्नलिज्म, एमए इन मास कम्युनिकेशन, एमए इन जर्नलिज्म, डिप्लोमा इन डेवलपमेंट जर्नलिज्म, डिप्लोमा इन कम्युनिकेशन, जर्नलिज्म एंड पब्लिक रिलेशन, पीजी डिप्लोमा इन मास मीडिया आदि।
क्या आपमें हैं ये गुण
यदि आप मास कम्युनिकेशन के क्षेत्र उजला में करियर बनाना चाहते हैं, तो आपमें कुछ व्यक्तिगत गुण व योग्यताएं होना भी जरूरी हैं, जैसे अच्छी कम्युनिकेशन स्किल्स के साथ आपको नवीनतम सामान्य ज्ञान की जानकारी हो। विचारों में पूरी तरह निष्पक्षता, परिपक्वता व तार्किकता का होना नितांत आवश्यक है। साथ ही आपमें समाचारों और सम-सामयिक विषयों की गहरी समझ होनी चाहिए। सूचनाओं को समझकर उन्हें तत्काल अपनी सटीक भाषा में लिखने व बोलने की कला भी आपको आनी चाहिए।
कहां-कहां अवसर
मास कम्युनिकेशन में करियर बनाने के इच्छुक युवा समाचार पत्रों-पत्रिकाओं, प्रेस सूचना ब्यूरो, वेबसाइट, प्रोडक्शन हाउस, न्यूज एजेंसी, दूरदर्शन से लेकर राष्ट्रीय तथा क्षेत्रीय प्राइवेट चैनलों में अच्छी नौकरी पा सकते हैं। रिपोर्टिंग, स्तंभ लेखन, संपादन, फोटोग्राफी, रिसर्च, पब्लिकेशन डिजाइन, फिल्म मेकिंग, स्क्रिप्ट राइटिंग, एंकरिंग, फ्रीलांसिंग के अलावा बतौर समाचार विश्लेषक भी आप करियर बना सकते हैं। मास्टर्स डिग्री के बाद इस क्षेत्र में शोध कार्य करके मास कम्युनिकेशन में अध्यापन में भी करियर बना सकते हैं।
पीआर में भी मौके
मास कम्युनिकेशन का कोर्स करने के बाद आप कई अन्य क्षेत्रों में भी बेहतर भविष्य का निर्माण कर सकते हैं। प्रतिस्पर्धा के वर्तमान दौर में हर कंपनी को पब्लिक रिलेशन ऑफिसर (पीआरओ) की जरूरत पड़ती है। सरकारी व प्राइवेट सभी प्रकार की कंपनियां समय-समय पर पीआरओ की भर्तियां निकाल रही हैं। वेतन के मामले में भी पीआर पत्रकारिता से कहीं आगे है। इसके अलावा बैंकों में भी पीआरओ की बहुत मांग है। मास कम्युनिकेशन का कोर्स करके आप पीआरओ के क्षेत्र में भी सफल करियर बना सकते हैं।
प्रमुख संस्थान
– स्कूल ऑफ जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन, देवी अहिल्या विश्वविद्यालय, इंदौर
– माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं जनसंचार विश्वविद्यालय, भोपाल
– महात्मा गांधी चित्रकूट ग्रामोदय विश्वविद्यालय, चित्रकूट
– जागरण लेकसिटी विश्वविद्यालय, भोपाल
– मुंबई विश्वविद्यालय, मुंबई
– पुणे विश्वविद्यालय, पुणे
– दिल्ली विश्वविद्यालय, नई दिल्ली
– इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मास कम्युनिकेशन, नई दिल्ली
– एजेके मास कम्युनिकेशन रिसर्च सेंटर, जामिया मिलिया इस्लामिया, नई दिल्ली
– गुरु जम्भेश्वर विश्वविद्यालय, हिसार