खानपान की इन चीजों से जुड़े हैं दिलचस्प अंधविश्वास

भले ही हम 21वीं में जी रहे हैं लेकिन अभी भी कुछ ऐसे अंधविश्वास है जो सालों से चले आ रहे हैं। इनमें से कुछ तर्क के साथ तो कुछ बेतुके वजह के साथ फॉलो होते हैं। जैसे नए काम की शुरूआत से पहले दही खाना इसे सफल बनाता है तो बाहर जाने से पहले दूध पीना अपशकुन माना जाता है। अंधविश्वासी विश्वास अक्सर किसी देश के सांस्कृतिक माहौल से जुड़ा हुआ है। अंधविश्वास के दो पहलू हो सकते हैं, कुछ अंधविश्वास सकारात्मक हैं जो आपके आत्मविश्वास को बढ़ा सकते हैं या अच्छे भाग्य ला सकते हैं जबकि कुछ नकारात्मक काम कर सकते हैं। विज्ञान के अनुसार, ये मान्यताएं तर्कहीन या मिथक हैं।
यहां ऐसे इंडियन फूड्स के बारे में बता रहे हैं जिससे कि कुछ दिलचस्प अंधविश्वासों से जुड़े हैं:
नीबू
यदि आप नीबू और मिर्च को एक साथ बांधते हैं तो बुरी नजरें दूर रहेंगी। भारत में, लोग आमतौर पर दुकानों, कार्यस्थलों और यहां तक कि घर के दरवाजे पर इसे टांग दिया करते हैं। यह भी माना जाता है कि एक गिलास पानी में एक पूरी नीबू डालना पर्यावरण की नकारात्मकता को अवशोषित कर सकता है।
दूध
अपने संपूर्ण पोषण तत्वों के कारण दूध को एक कम्प्लीट फूड माना जाता है। दूध से संबंधित बड़ा अंधविश्वास है कि यदि आप घर से बाहर जाने से पहले दूध पीते हैं तो आपका बुरी भाग्य साथ आएगा। यह भी माना जाता है कि, अगर कोई व्यक्ति अंधेरे के बाद दूध लेता है तो उसे इसे लेने से इंकार कर देना चाहिए क्योंकि यह मवेशियों में दूध को कम कर सकता है।
हल्दी
धार्मिक और शुभ अवसरों पर आमतौर पर हल्दी का उपयोग किया जाता है, क्योंकि यह माना जाता है कि इससे नकारात्मकता खत्म होती है। भारतीय अच्छी किस्मत लाने या बुरी नजर से बचाने के लिए हल्दी पाउडर को अपने घर के आसपास छिड़क देते हैं।
तुलसी
हालांकि तुलसी एक औषधीय पौधा है और इसका कई दवाइयों में प्रयोग किया जाता है, लेकिन भारतीय संस्कृति में, यह एक पवित्र पौधा है जो कि पर्यावरण को शुद्ध करता है और इसे भगवान को अर्पित किया जाता है। तुलसी पत्ता आमतौर पर भारत में ग्रहण के दौरान पेय और भोजन में डालते हैं।
मछली
भारतीय संस्कृति में मछली को अच्छे भाग्य के रूप में माना जाता है। मछली से जुड़ा अंधविश्वास यह है कि किसी प्रोजेक्ट या यात्रा को शुरू करने से पहले मछली को देखना शकुन होता है और इससे अच्छा भाग्य ला सकते हैं।
दही और चीनी
चीनी और दही के संयोजन को एक अच्छा शकुन माना जाता है और आमतौर पर लोगों को इसे छोटी-मोटी या लंबी यात्राओं, परीक्षा के समय, साक्षात्कार में जाने से पहले इसे खाते हैं।
नमक
ऐसा माना जाता है कि अगर नमक गलती से भी नीचे गिर जाए तो वह दुर्भाग्य ला सकता है। इसे फेंकने से पहले पानी से बाहर घोलना चाहिए। कमरे के कोनों में छोटे कटोरे में रखा नमक नकारात्मक ऊर्जा को भी अवशोषित कर सकता है।
तेल और अचार
भारतीय संस्कृति के मुताबिक, लंबी यात्रा के दौरान तेल या अचार ले जाना अपशकुन वाला काम है। इसलिए इस संयोजन को यात्रा के दौरान ले जाने से बचना चाहिए।
घी
हिंदू धर्म में घी को पवित्र माना जाता है।इसका उपयोग दीपक को जलाने में किया जाता है ताकि घर की नकारात्मक ऊर्जा को दूर किया जा सके और सकारात्मकता और खुशी लाई जा सके।
मिर्च
भारतीय मान्यतानुसार, मिर्च प्रभावित व्यक्ति से बुरी नजर को मिटा सकती है। आप इससे साथ असहमत हो सकते हैं, लेकिन यह अभ्यास दुनिया भर में कई धर्मों और समुदायों द्वारा किया जाता है।