गंगानगर के चार जने बन गये जमीन के फर्जी मालिक

– ठगी करने वालों में प्रोपर्टी डीलर शामिल
– पुगल पुलिस ने किया गिरफ्तार
बीकानेर। श्रीगंगानगर के एक प्रोपर्टी डीलर ने अपने साथियों के साथ मिल कर किसी दूसरे की जमीन को खुद का बताते हुए एक व्यक्ति से पांच लाख रुपए की ठगी कर ली। पुगल ने इस मामले में प्रोपर्टी डीलर सहित चार जनों को गिर$फ्तार करके दो दिन के रिमांड पर लिया है।
पुलिस के अनुसार ठगी के आरोप में श्रीगंगानगर में संत कृपाल आश्रम के निकट 39 संत कृपाल नगर निवासी प्रोपर्टी डीलर मंगतराम अरोड़ा पुत्र केशवानंद अरोड़ा, माडूराम पुत्र आशाराम नायक निवासी चक 4 ई छोटी पुलिस थाना सदर श्रीगंगानगर, जगजीत सिंह पुत्र कपूर सिंह निासी वार्ड नम्बर 11, चक 4 ई छोटी पुलिस थाना सदर श्रीगंगानगर, चरणजीत सिंह पुत्र नादा सिंह मजबी सिख निवासी वार्ड नम्बर 11 चक 4 ई छोटी को गिरफ्तार किया गया है। इन लोगों के खिलाफ बीकानेर निवासी महेन्द्र राजवी ने जमीन के फर्जी दस्तावेज दिखा कर पांच लाख रुपए की ठगी करने के आरोप में मुकदमा दर्ज करवाया था।
जांच के दौरान सामने आया कि मंगतराम अरोड़ा से महेन्द्र राजवी ने जमीन खरीदने के लिए सम्पर्क किया था। मंगतराम अरोड़ा प्रोपर्टी डीलर है। मंगतराम अरोड़ा ने महेन्द्र राजवी को विश्वास दिलाया कि वह उसे पुगल थाना क्षेत्र में जमीन दिला देगा।
मंगतराम ने महेन्द्र को बताया कि उसके पास जमीन बेचने वाला किसान है। ऐसे में मंगतराम ने माडूराम नायक को फर्जी दस्तावेज तैयार करके जमीन का मालिक बना लिया और महेन्द्र राजवी को 150 बीघा भूमि बेचने के लिए 30 लाख रुपए में सौदा कर लिया। महेन्द्र ने कागजातों के आधार पर आरोपियों से 150 बीघा भूमि खरीदने के लिए सौदा तय कर लिया। साई पेटे पांच लाख रुपए दे दिए।
इसके बाद जमीन की रजिस्ट्री करवाने से इंकार कर दिया। पुलिस ने बताया कि मंगतराम अरोड़ा व माडूराम नायक ने फर्जी मूल निवास व राशन कार्ड तैयार करके किसी गैर की जमीन को खुद मालिक बताया था। आरोपियों से पूछताछ चल रही है।