गलत सरकारी नीतियों से किसानों को नुकसान

– योगेन्द्र यादव ने मंडी में घूमकर जानी किसानों की समस्याएं
श्रीगंगानगर। स्वराज इंडिया अभियान के संस्थापक योगेंद्र यादव ने कहा है कि केन्द्र और भाजपा सरकार की गलत नीतियों की वजह से किसान नुकसान उठा रहे हैं। सोमवार को उन्होंने नई धानमंडी में किसानों से मुलाकात कर उनकी समस्याएं सुनते हुए यह बात कही।
यादव ने नई धानमंडी परिसर में घूमकर किसानों, मजदूरों और व्यापारियों से बात की। मंडी के फस्र्ट ब्लॉक में बोली के दौरान उन्होंने सरसों और जौ न्यूनतम समर्थन मूल्य से नीचे बिकने पर रोष जताते हुए कहा कि केन्द्र सरकार की गलत नीतियों का खामियाजा किसान उठा रहे हैं। सरकार ने सरसों का समर्थन मूल्य 4000 और जौ का 1410 रुपए प्रति क्ंिवटल घोषित तो कर दिया लेकिन ये भाव नहीं मिल रहे।
सरसों 3777 और जौ 1247 रुपए बिकने से किसानों को प्रति क्ंिवटल दो सौ रुपए से अधिक का नुकसान हो रहा है। उनके लिए लागत निकालना भी मुश्किल हो रहा है। वह भी तब, जब सरकार कह रही कि वह किसानों को लागत का डेढ़ गुना मूल्य जोड़कर भाव देने की नीति बनाएगी। उन्होंने कहा कि समर्थन मूल्य के नाम पर सरकार किसानों को गुमराह कर रही है। सरकार जौ की सरकारी खरीद तुरंत शुरू करते हुए घोषित समर्थन मूल्य पर सरसों की खरीद करवाए।
समर्थन मूल्य से नीचे फसलें बिकीं तो किसान आर्थिक रूप से कमजोर होंगे। सरकार ई-रजिस्ट्रेशन की बाध्यता समाप्त करते हुए पूर्व की भांति दुकानों पर समर्थन मूल्य पर कृषि जिंसों की खरीद करवाए ताकि किसान पूरी फसल बेच सकें।
व्यापारियों और मजदूरों ने बताई समस्याएं
मंडी व्यापारियों और मजदूरों ने यादव को समस्याएं बताईं। व्यापारियों ने आरोप लगाया कि वायदा कारोबार के बड़े खिलाड़ी और प्रभावशाली राजनीतिज्ञ छोटे व्यापारियों को मार रहे हैं। वायदा कारोबारी जानबूझ कर कमोडिटी के भाव बढऩे नहीं देते। वे कम भाव में माल खरीदकर विदेशों में भेजकर खुद मोटा मुनाफा कमा रहे हैं। इस पर यादव ने कहा कि सक्षम लोग यहां किसानों, व्यापारियों और मजदूरों द्वारा बताई समस्याओं को सरकार के सामने रखें। राष्ट्रीय स्तर पर इन्हें उठाने का काम वे दिल्ली जाकर करेंगे। इस दौरान उनके साथ एडवोकेट सुभाष सहगल, मनिन्दरसिंह मान, हनुमान गोयल, मजदूर नेता साधुराम घडिय़ाव, बॉबी पहलवान आदि मौजूद रहे।
कृषि जिंसों की समर्थन मूल्य से कम बोली होने पर पूर्व विधायक हेतराम बेनीवाल ने कहा कि इसी व्यवस्था से आक्रोशित किसान मंगलवार को जिला कलक्टर का घेराव करेंगे। जब तक समर्थन मूल्य पर कृषि जिंसें नहीं बिकतीं, तब तक घेराव जारी रहेगा। इसके बाद भी सरकार नहीं मानी तो आंदोलन को पूरे जिले में फैलाया जाएगा। किसान एमएसपी से नीचे अपनी फसलें नहीं बेचेगा।व्यापारियों और मजदूरों ने बताई समस्याएं
मंडी व्यापारियों और मजदूरों ने यादव को समस्याएं बताईं। व्यापारियों ने आरोप लगाया कि वायदा कारोबार के बड़े खिलाड़ी और प्रभावशाली राजनीतिज्ञ छोटे व्यापारियों को मार रहे हैं। वायदा कारोबारी जानबूझ कर कमोडिटी के भाव बढऩे नहीं देते। वे कम भाव में माल खरीदकर विदेशों में भेजकर खुद मोटा मुनाफा कमा रहे हैं। इस पर यादव ने कहा कि सक्षम लोग यहां किसानों, व्यापारियों और मजदूरों द्वारा बताई समस्याओं को सरकार के सामने रखें। राष्ट्रीय स्तर पर इन्हें उठाने का काम वे दिल्ली जाकर करेंगे। इस दौरान उनके साथ एडवोकेट सुभाष सहगल, मनिन्दरसिंह मान, हनुमान गोयल, मजदूर नेता साधुराम घडिय़ाव, बॉबी पहलवान आदि मौजूद रहे।
कृषि जिंसों की समर्थन मूल्य से कम बोली होने पर पूर्व विधायक हेतराम बेनीवाल ने कहा कि इसी व्यवस्था से आक्रोशित किसान मंगलवार को जिला कलक्टर का घेराव करेंगे। जब तक समर्थन मूल्य पर कृषि जिंसें नहीं बिकतीं, तब तक घेराव जारी रहेगा। इसके बाद भी सरकार नहीं मानी तो आंदोलन को पूरे जिले में फैलाया जाएगा। किसान एमएसपी से नीचे अपनी फसलें नहीं बेचेगा।