गूगल ने पेश किया एंड्रॉयड पी बीटा वर्जन

केलिफोर्निया में 8 से 10 मई के बीच चलने वाले वार्षिक कांफ्रेंस शुरू हो गया है। इवेंट की शुरुआत में गूगल के मुख्य कार्यकारी अधिकारी सुंदर पिचाई कंपनी द्वारा किए गए अब तक के कामों को विस्तार से बता रहे हैं। गूगल ने टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में अब तक क्या विकास किया और आने वाले समय में कंपनी की योजना है, पिचाई इसी बारे में बता रहे हैं।
गूगल असिस्टेंट को किया और बेहतर: गूगल असिस्टेंट में 6 नई आवाजों को जोड़ा गया। अस्सिटेंट को लम्बी क्वेरी समझने लायक बनाया गया। मल्टीपल एक्शन का फीचर लाया जाएगा। अब गूगल असिस्टेंट में हे गूगल कहने की जरुरत नहीं पड़ेगी। इस साल यूजर्स को जॉन लेजेंड की आवाज में गूगल असिस्टेंट जवाब देगा।
आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर कंपनी का जोर: गूगल फोटोज में ्रढ्ढ की मदद से अपने यादगार पलों को और बेहतर बनाया जा सकेगा। इससे पुरानी ब्लैक एंड व्हाइट फोटोज को भी कलरफुल बनाया जा सकेगा। इसी के साथ मोबाईल से खींची गई तस्वीरों को कैमरा से ही पीडीएफ में बदला जा सकेगा। त्रद्वड्डद्बद्य यूजर्स को स्मार्ट प्रेडिक्शन फीचर मिलेगा। इसे कंपनी ने स्मार्ट कम्पोज का नाम दिया है। यह फीचर भी एआई पर आधारित है।
गूगल देगा ना बोलने वालों को आवाज: AI के जरिए गूगल ऐसे लोगों को आवाज देने की कोशिश करेगा जो बोल या लिख नहीं सकते। इसी के साथ कंपनी ने हेल्थ सेक्टर में एआई की महत्व्पूर्ण भूमिका के बारे में बात की। इससे मेडिकल रिकाड्र्स को बेहतर किया जा सकता है।
एंड्रॉयड यूजर्स के लिए है क्या खास: कंपनी ने 10 साल पहले पहले एंड्रॉयड स्मार्टफोन लॉन्च किया था। एंड्रायड स्मार्टफोन ऑपरेटिंग सिस्टम से कहीं अधिक भूमिका निभाता है। यह स्मार्टफोन तक सीमित ना रहकर टीवी तक पर इस्तेमाल किया जाता है।
कंपनी एंड्रायड क्क पर कर रही है काम। इंटेलिजेंस, सिम्पलिसिटी और डिजिटल वेल्बीइंग पर आधारित है एंड्रायड क्क ऑपरेटिंग सिस्टम:
अडेप्टिव लर्निंग फीचर होगा उपलब्ध: आपके द्वारा इस्तेमाल की जा रही एप्स का फोन रखेगा ध्यान।
अडेप्टिव ब्राइटनेस: पावर एफिशियंट करते हुए यह फीचर आपके फोन की ब्राइटनेस को करेगा खुद एडजस्ट।
एप एक्शन्स फीचर किया पेश: यूजर की फोन या काम के तरीके को समझ के किस टास्क को पहले करने है, यह तय करेगा। उदाहरण के लिए- अगर आप अपनी पसंद की मूवी सर्च करते हैं तो यह फीचर आपको वहीँ टिकट्स बुक करने का विकल्प देगा।
सिस्टम नेविगेशन हुआ नया: यूजर्स का एंड्रायड को इस्तेमाल करने का बेहतर अनुभव। एंड्रॉयड के नए ओएस में सिम्पलिसिटी को दी गई तवज्जो। फोन के डैशबोर्ड पर आपको पता चलेगा की आप अपना समय कहां बिता रहे हैं। इससे आपको अपना समय बैलेंस करने में आसानी होगी। एंड्रॉयड क्क में इस डैशबोर्ड के जरिए आप मोबाईल और डेस्कटॉप पर कितना समय बिता रहे हैं यह भी देख पाएंगे। इस ओएस के जरिए आप एप्स को इस्तेमाल करने की समय सीमा भी तय कर पाएंगे।
गूगल मैप्स हुआ बेहतर: गूगल मैप्स अब आपका आना-जाना ही आसान नहीं करेगा। इसमें अब आपके आस-पास की जगहों की भी जानकारी मिलेगी। योर मैच फीचर किया गया पेश। यह आपकी पसंद के अनुसार मैच दिखाएगा। यह फीचर मशीन लर्निंग पर काम करेगा। अपने पसंद की जगहों को शॉर्टलिस्ट कर के अपने दोस्तों के साथ कर पाएंगे शेयर। रियल-टाइम वोटिंग कर के कर पाएंगे जगह का चुनाव। यह फीचर होगा इसी साल उपलब्ध।
कैमरा में देख पाएंगे मैप्स के फीचर: कैमरा ओपन कर के देख पाएंगे आस-पास की जगहों और रास्तों के बारे में। कंपनी विजउल पोजिशनिंग सिस्टम पेश किया। उदहारण के तौर पर- जिस तरह हम कसी जगह या रस्ते को याद करने के लिए आस-पास की किसी लोकेशन या बैनर या दूकान आदि को याद रखते हैं। उसी तरह गूगल भी इस सिस्टम की अदद से विजुअल चीजों को याद करेगा।
स्मार्ट टेक्स्ट सिलेक्शन: बुक आदि यानि की रियल वल्र्ड से टेक्स्ट को अपने फोन में कर सकेंगे कॉपी। उदाहरण के लिए- किसी रेस्टोरेंट में जाकर आप स्मार्ट टेक्स्ट सिलेक्शन का इस्तेमाल करके आप डिश के बारे में सब जान पाएंगे।