गोरखपुर में लगातार 7वीं बार कांग्रेस की जमानत जब्त

गोरखपुर। यूपी के उपचुनाव में भाजपा को इस बार करारा झटका मिला है. गोरखपुर के मजबूत भगवा किले में सपा ने ऐसी सेंधमारी की कि भाजपा के बड़े-बड़े दावे हवा हो गए. गोरखनाथ मंदिर के प्रभाव वाली इस लोकसभा सीट पर सपा प्रत्याशी प्रवीन निषाद ने जहां जीत का रिकॉर्ड बनाया, वहीं कांग्रेस ने भी एक ऐसा अनचाहा रिकॉर्ड बना डाला जिससे यहां उसकी सियासी साख दांव पर लग गई है. इस बार की हार के साथ ही कांग्रेस न सिर्फ गोरखपुर में बुरी तरह हारी, बल्कि ये लगातार सातवीं हार है जिसमें कांग्रेस प्रत्याशी अपनी जमानत तक नहीं बचा सके. उपचुनाव में कांग्रेस ने इस बार डा. सुरहिता करीम को मैदान में उतारा था. लेकिन वे अपनी जमानत तक नहीं बचा सकीं. उन्हें महज 18858 वोट मिले. इससे पहले 2014 के चुनाव में कांग्रेस ने अष्टभुजा प्रसाद त्रिपाठी को चुनावी मैदान में उतारा था, लेकिन योगी लहर में वे ऐसे ‘बहेÓ कि उनकी भी जमानत जब्त हो गई. उन्हें 45693 वोट मिले. 2009 में कांग्रेस के टिकट पर लाल चंद निषाद चुनावी रण में उतरे, लेकिन केंद्र की सत्ता में कांग्रेस के होने का उन्हें कोई फायदा नहीं मिला.