चलो घूमकर आएं हम

जब आप उदास और अवसाद महसूस करें, तो घूमने निकल जाएं। पैदल ही अपने आसपास टहलें। किसी ऐसे स्थान की तलाश करें जो शांत हो। इससे आपका दिमाग एकाग्र होगा और आपको इस परेशानी से निकलने का कोई न कोई रास्ता जरूर मिल जाएगा। पैदल चलने से मस्तिष्क में न्यूरॉन्स का स्राव होता है, जो मानसिक खुशी देने का काम करते हैं। इससे आपका शरीर खुलता है और दुख दूर होता है।
करीबियों के जायें करीब
अपने दिल की बातों को अपने तक ही न रखें। आप परेशान करने वाले कारणों के बारे में अपने करीबियों से बात कर सकते हैं। इससे आपको दुख से निपटने में मदद मिलेगी। इसके साथ ही चीजों को देखने का नया नजरिया भी आपके सामने आएगा।
नाचे मन मयूर
टेंशन को दूर करने के लिए नाचना काफी अच्छा व्यायाम माना जाता है। नाचने से आत्म-सम्मान में इजाफा होता है और साथ ही तनाव का स्तर भी कम होता है। इतना ही नहीं नाचने से आपका शारीरिक व्यायाम भी होता है और आप अधिक फिट भी रहते हैं।
साफ-सफाई ने टेंशन भगाई
टेंशन दूर करने का एक तरीका यह भी है। और इसके भी एक साथ कई फायदे हैं। अगली बार जब आप दुखी अथवा उदास हों, तो बिना देर किये अपने आसपास सफाई शुरू कर दें। सफाई से न केवल आपको बेकार की चीजों से छुटकारा मिलेगा, बल्कि साथ ही दिमाग को परेशान करने वाली व्यर्थ के विचारों से भी निजात मिलेगी। इसके साथ ही आपका व्यायाम होगा सो अलग।
बाजा बजायें टेंशन भगाएं
बहुत उदास हैं, तो अपनी इस उदासी को दूर करने के लिए गिटार उठायें और एक नयी धुन तैयार करें। और कुछ न हो तो टेबल को ही तबला समझकर उस पर कुछ संगीत-लहरियां छेड़ दें। इससे आपका मूड सुधरता है और आप पहले से अधिक प्रसन्न महसूस करते हैं।
किताब पढ़ें जनाब
अपनी मनोदशा को सही करने के लिए आप किताबों के आगोश में जा सकते हैं। किताबे आपकी सबसे अच्छी मित्र होती हैं। ये आपको कभी भी खाली हाथ नहीं लौटातीं। इनके पास हमेशा आपको देने के लिए नयी सीख और दिशा होती है। अपने मूड को और हल्का करने के लिए आप कॉमिक्स भी पढ़ सकते हैं, ये भी आपको खुश रहने में मदद करती हैं।