छत्तीसगढ़ में सरकार कराएगी बंदरों की नसबंदी

रायपुर। जंगली हाथी और भालू के साथ ही राज्य के कई हिस्सों में उत्पाती बंदर आफत बने हुए हैं। इनकी संख्या भी तेजी से बढ़ रही है। ऐसे में सरकार ने अब उनकी नसबंदी कराने का फैसला किया है। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की अध्यक्षता में मंगलवार को हुई राज्य वन्य जीव बोर्ड की बैठक में यह फैसला किया गया। बंदरों की नसबंदी (स्टरलाइजेशन) के लिए कोरिया और रायगढ़ जिले में एक-एक केंद्र स्थापित होंगे। सरगुजा एवं उत्तर क्षेत्र आदिवासी विकास प्राधिकरण की बैठक में कुछ जनप्रतिनिधियों ने बंदरों के आतंक की शिकायत की थी। इसी के मद्देनजर यह फैसला लिया गया है। बैठक में राज्य में ईको टूरिज्म के शुभंकर श्यामू-राधे के डिजाइन का अनुमोदन किया गया। शुभंकर के डिजाइन में राजकीय पशु वन भैंसा के सिर पर राजकीय पक्षी पहाड़ी मैना को बैठा दिखाया गया है।