जयललिता की सीट पर चुनाव हुआ रद्द

-वोटरों को पैसा बांटने का आरोप
चेन्नई। चुनाव आयोग ने तमिलनाडु की आरके नगर विधानसभा सीट पर 12 अप्रैल को होने वाले उपचुनाव को रद्द कर दिया है। मतदाताओं को प्रभावित करने के लिए भारी मात्रा में रुपये का इस्तेमाल होने की रिपोर्टों के बाद आयोग यह फैसला किया है। आयोग ने देर रात जारी बयान में कहा कि राजनीतिक दलों द्वारा धनबल के जरिए चुनाव प्रक्रिया का ‘गंभीर उल्लंघन किया जा रहा था। राज्य के चुनाव अधिकारियों के साथ कई दौर की वार्ता के बाद आयोग ने उपचुनाव की अधिसूचना रद्द कर दी। आयोग ने कहा कि वोटरों को लुभाने के लिए बांटे गए धन और तोहफों का प्रभाव खत्म होने के बाद इस सीट पर उपचुनाव कराया जाएगा। दरअसल, आयकर विभाग की खोजी शाखा ने तमिलनाडु के स्वास्थ्य मंत्री सी विजय भास्कर की संपत्तियों और दफ्तरों पर शुक्रवार को छापेमारी की थी। इस दौरान उनके एक सहयोगी के परिसरों की भी पड़ताल की गई। इस दौरान पता चला कि आरके नगर विधानसभा के ‘मतदाताओं को बांटने के लिए 89 करोड़ रुपये रखे गए हैं। पांच दिसंबर को जे जयललिता की मौत के बाद इस सीट पर उपचुनाव हो रहा था। विजय भास्कर एआईएडीएमके (अम्मा) धड़े के उम्मीदवार टीटीवी दिनाकरण के वफादार बताए जाते हैं। वह इस उपचुनाव के मुख्य प्रचारकर्ताओं में से एक हैं। वह आयकर विभाग के निशाने पर आने वाले राज्य के पहले मंत्री हैं। ऐसी कई शिकायतें थीं कि अन्नाद्रमुक का ये धड़ा चुनाव जीतने के लिए पैसे बांट रहा है।