जिले के 38 अधिकारियों को मिलेगी चार्जशीट

– जनसुनवाई के महत्त्वपूर्ण कार्य में लापरवाही असहनीय : कलक्टर
श्रीगंगानगर। जिला कलक्टर ज्ञानाराम ने कहा कि मुख्यमंत्रा हैल्पलाईन 181 में निर्धारित अवधि के बाद जिले में 38 ऐसे अधिकारी है, जिन्होंने ध्यान नही दिया तथा ये प्रकरण एल थ्री तक पहुंच गये। ऐसे अधिकारियों के विरूद्ध 17सीसीए की कार्यवाही अमल में लाई जायेगी। जिला कलक्टर ने कहा कि मैं स्वयं प्रतिदिन दो बार हैल्पलाईन खोलकर देखता हूॅ। सभी अधिकारियों को ऐसी आदत डालनी चाहिए।
जिला कलक्टर बुधवार को कलेक्ट्रेट सभा हॉल में जिला स्तरीय अधिकारियों की बैठक में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि जनसुनवाई के इस महत्वपूर्ण कार्य में किसी प्रकार की लापरवाही असहनीय है। उन्होंने अधिकारियों को आगाह किया कि हैल्पलाईन 181 में निर्धारित अवधि निकलने के बाद कोई रास्ता नही है। रास्ता सिर्फ एक 17सीसीए की कार्यवाही ही है। उन्होंने बताया कि पेयजल विभाग के ऐसे दो अधिकारी, सिंचाई विभाग का एक, विधुत निगम के सात, श्रम विभाग का एक, चिकित्सा विभाग का एक, नगरविकास न्यास का एक तथा जिला रसद विभाग सहित अन्य विभागों के प्रकरण छोटे अधिकारी से शुरू होकर एलथ्री तक पहुंच गये है, ऐसे अधिकारियों के विरूद्ध कार्यवाही की जायेगी।
जिला कलक्टर ने भामाशाह योजना में 100 प्रतिशत सीडिंग करने तथा राशन वितरण में अधिकतम ट्रांजेक्शन दिखाने पर चर्चा हुई। जिले में गांवों में चल रहे गौरव पथ निर्माण की प्रगति व दो शेष कार्यों की रिपोर्ट प्रस्तुत करने के निर्देश दिये गये। स्वच्छ भारत मिशन के तहत शहरी क्षेत्रा में सभी वार्डों को ओडीएफ घोषित करने पर विचार विमर्श हुआ। उन्होंने कहा कि 10 दिसम्बर 2017 से पूर्व ओडीएफ की प्रगति को अद्यतन करें। अन्नपूर्णा रसोई जिले में प्रारम्भ की जाये, इस पर चर्चा हुई। भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना, आरएसएलडीसी की प्रगति के साथ-साथ श्रमिक पंजीयन योजना में लम्बित आवेदन पत्रों को ऑनलाईन करने के निर्देश दिये गये।