जिसकी अस्मत गई, उसी से ली रिश्वत

– घड़साना पुलिस थाने का सब इंस्पेक्टर बचन सिंह गिरफ्तार
– बलात्कार पीडि़ता से घूसखोरी का राज्य में संभवत: पहला मामला
घड़साना। जिस महिला की अस्मत लूट ली गई हो, वह अपने साथ ज्यादती करने वालों को गिरफ्तार कराने की गुहार लगाए और पुलिस उससे इसके बदले में भी रिश्वत मांगे, यह सुनकर अजीब तो लगता है लेकिन भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने आज ऐसे ही मामले का पर्दाफाश किया। एसीबी ने जिले के घड़साना थाने के पुलिस उप निरीक्षक बचन सिंह को एक बलात्कार पीडि़त महिला से 25 हजार रुपए घूस लेते हुए गिरफ्तार कर लिया।
यह कार्रवाई आज सुबह एसीबी के एसीपी रजनीश पूनियां के नेतृत्व में की गई। जिसने भी इस कार्रवाई के बारे में सुना, वह हैरान रह गया। पुलिस की वर्दी पहनने के बाद रिश्वत लेना ही ज्यादातर लोगों की आदत में शुमार हो जाता है। अपराधियों से रिश्वत लेने की बातें अक्सर सुनते हैं मगर किसी पीडि़त, वह भी बलात्कार पीडि़त से घूस लेते पकड़े जाने का राज्य में संभवत: यह पहला मामला है। हर मामले में वर्दी वाले को रिश्वत चाहिए। घड़साना पुलिस थाना के एसआई बच्चन सिंह ने बलात्कार पीडि़ता को नहीं बख्शा। एसआई को एसीबी बीकानेर की टीम ने आज सुबह 25 हजार रुपए की रिश्वत लेने गिरफ्तार कर लिया।
एसीबी बीकानेर चौकी की पुलिस अधीक्षक ममता राहुल ने बताया कि थानेदार द्वारा घूस मांगे जाने की शिकायत का सत्यापन करवाया गया तो इसकी पुष्टि हुई। सत्यापन के दौरान एसआई बचन सिंह ने मुकदमे में मदद करने का भरोसा दिलाते हुए 25 हजार रुपए की रिश्वत मांगी। इस पर उसे पकडऩे के लिए जाल बिछाया गया। तय कार्यक्रम के अनुसार दुष्कर्म पीडि़ता का रिश्तेदार आज सुबह नई मंडी घड़साना में किराये के मकान में रहने वाले एसआई बचन सिंह को रुपए देने पहुंचा। जैसे ही बचन सिंह ने रुपए लिए, इशारा मिलने पर वहां पहले से मोर्चाबंदी करके बैठी एसीबी की टीम ने उसे गिरफ्तार कर लिया। उससे रिश्वत की रकम बरामद कर ली गई। इस कार्रवाई में एसीबी के एएसपी रजनीश पूनियां, सीआई मनोज कुमार, अशोक कुमार, रामप्रताप, नरेन्द्र कुमार, अनिल कुमार, गिरधारी दान, हंसराज, ज्ञानेन्द्र ङ्क्षसह व चालक महेश शामिल थे।
रिश्वतखोर एसआई के मकान से एक लाख बरामद
घड़साना। दुष्कर्म पीडि़ता के केस में आरोपी के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने की एवज में पीडि़ता की ओर से 25 हजार रुपए की रिश्वत लेते गिरफ्तार एसआई बच्चन सिंह के किराये के मकान से एसीबी ने एक लाख रुपए की नगदी भी बरामद की है। यह नगदी बंद कमरे में रखी हुई थी। इस संबंध में एसीबी की टीम ने एसआई बच्चन सिंह से पूछताछ भी की, लेकिन इस नगदी के बारे में एसआई को संतोषजनक जवाब नहीं दे पाये। एसीबी सूत्रों के अनुसार एसआई बच्चन ङ्क्षसह को ट्रेप करने से पहले सत्यापन के दौरान की गई रिकॉर्डिंग में एसआई, थानाधिकारी विक्रम सिंह चौहान को भी रिश्वत की रकम में हिस्सा देने की बात कह रहा है। एसीबी के अधिकारी इस मामले में एसएचओ की भूमिका की जांच पड़ताल कर रहे हैं। समाचार लिखे जाने तक एसीबी की टीम ने घड़साना पुलिस थाना में डेरा डाला हुआ था।