जेल से लापता होने के बाद इस जगह पर भी दिखी थी हनीप्रीत, नया सच आया सामने

नईदिल्ली। जेल से लापता होने के बाद राम रहीम की ‘दुलारी, हनीप्रीत का कोई सुराग नहीं है, लेकिन रोहतक के बाद एक और जगह पर वो गई थी और वहां उसे देखा भी गया था। बताया जा रही है कि हरियाणा सरकार और पुलिस के लिए सिरदर्द बनी डेरामुखी की गोद ली बेटी हनीप्रीत राम रहीम को रोहतक जेल में छोड़कर दो दिन तक सिरसा डेरे में छिपी थी। उस दौरान इसके बारे में न तो सिरसा प्रशासन को भनक लगी न पुलिस को। जब हनीप्रीत की पुलिस ने सरगर्मी से तलाश शुरू की तो वह सभी को चकमा देते हुए चंपत हो गई। दरअसल, 25 अगस्त को सीबीआई कोर्ट ने गुरमीत राम रहीम को साध्वी यौन उत्पीडऩ मामले में दोषी करार दिया था। सुनवाई के दौरान डेरामुखी के साथ उसकी कथित बेटी हनीप्रीत भी थी। डेरामुखी को हेलीकाप्टर से रोहतक सुनारिया जेल लाया गया था। हनीप्रीत भी उसके साथ आई थी। डेरामुखी के जेल में जाने के बाद हनीप्रीत अपने तीन साथियों के साथ कार में बैठकर चली गई। इसके बाद से हनीप्रीत का कोई सुराग नहीं है। एक आईपीएस अधिकारी ने बताया कि हनीप्रीत अपने साथियों के साथ पहले रोहतक में करीब दो घंटे तक एक डेराप्रेमी के घर रुकी। इसके बाद वह सिरसा स्थित डेरे में पहुंची। डेरे में हनीप्रीत दो दिन तक रही। जब उसके खिलाफ पंचकूला में केस दर्ज कर लिया गया तो वह फरार हो गई। बता दें कि डेरा प्रमुख को दोषी करार देने के बाद गनमैन उसे कोर्ट से भगाकर ले जाना चाहते थे। इसकी साजिश हनीप्रीत ने रची थी। उसके खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी किया गया है। रोहतक से हिसार और सिरसा तक पुलिस और पैरा मिलिट्री के कड़े पहरे के बावजूद हनीप्रीत बेरोक-टोक सिरसा डेरे तक पहुंची। तब हनीप्रीत के खिलाफ कोई केस दर्ज नहीं किया गया था। इस कारण हनीप्रीत को रास्ते में पूछताछ के लिए रोका नहीं गया। बताया जा रहा है कि हनीप्रीत के साथ रोहतक का एक डेराप्रेमी पहुंचा था। पुलिस उसकी रोहतक में तलाश कर रही थी, लेकिन वह सिरसा डेरे में था। दो दिन तक डेरे की गतिविधियां हनीप्रीत की देखरेख में हुईं। बताया जा रहा है कि इस बीच डेरे में सबूतों को नष्ट किया गया।