डेढ़ सौ साल बाद पहला पूर्ण चंद्रग्रहण 31 जनवरी को

डेढ़ सौ साल से भी ज्यादा समय बाद आगामी 31 जनवरी को दुर्लभ पूर्ण चंद्रग्रहण लगने जा रहा है। यह चंद्रग्रहण एक ही माह में पडऩे वाली दूसरी पूर्णिमा पर लगता है। खगोलविद इस चंद्रग्रहण को ‘ब्लू मूनÓ कहते हैं। यह चंद्रग्रहण भारतीय उपमहाद्वीप, पश्चिम एशिया और पूर्वी यूरोप में दिखाई देगा।
साल 2018 का यह पहला चंद्रग्रहण होगा। उस समय चंद्रमा प्रशांत महासागर की ओर रहेगा और यह ग्रहण मध्य रात्रि के दौरान लगेगा। इस चंद्रग्रहण का पूरा चरण करीब 77 मिनट का होगा। इस दौरान चंद्रमा धरती के परछाई वाले दक्षिणी भाग से होकर गुजरेगा। पूर्ण ग्रहण के दौरान चंद्रमा का निचला हिस्सा ऊपरी छोर के मुकाबले ज्यादा चमकदार दिखाई देगा।
ऐसा अगला पूर्ण चंद्रग्रहण 2028 में-
इस साल के बाद चंद्रमा 31 दिसंबर, 2028 और 31 जनवरी, 2037 को पृथ्वी की छाया से होकर गुजरेगा। इन दोनों मौकों पर भी इस तरह का पूर्ण चंद्रग्रहण होगा।
1866 में लगा था पूर्ण ग्रहण-
इससे पहले 31 दिसंबर, 2009 को भी माह की दूसरी पूर्णिमा पर आंशिक चंद्रग्रहण लगा था। लेकिन इस तरह का आखिरी पूर्ण चंद्रग्रहण 31 मार्च, 1866 को लगा था।