डेरा सच्चा सौदा में तलाशी की तैयारी

– आज शाम तक शुरू हो सकता है सर्च अभियान
– सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम, बम और डॉग स्कवॉड तैनात
सिरसा। जेल में बंद गुरमीत सिंह उर्फ राम रहीम के अनगिनत रहस्यों से पर्दा उठने का वक्त आ गया है। मंगलवार को हाईकोर्ट ने हरियाणा सरकार को सिरसा के डेरा मुख्यालय की तलाशी की मंजूरी दे दी थी। आज शाम तक कभी भी हरियाणा पुलिस, हाई कोर्ट के कमिश्नर के साथ डेरा में घुसकर तलाशी अभियान शुरु कर सकती है. इसके लिए सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। जानकारी के मुताबिक, जांच की निगरानी के लिए पानीपत के रिटायर्ड जज अनिल कुमार पवार को नियुक्त किया गया है. इस काम के लिए उन्हें पर्सनल स्टाफ और वेतन दिया जाएगा. वह हाईकोर्ट को अपनी रिपोर्ट देंगे। सिरसा में ऑपरेशन के लिए एक आईएएस और तीन आईपीएस को जिम्मा सौंपा गया है. अर्धसैनिक बल और हरियाणा पुलिस के जवान तलाशी के लिए तैयार हैं. पुलिस ने 22 लोहारों को भी इस टीम में रखा है, ताकि सर्च ऑपरेशन के दौरान ताला तोडऩे में आसानी रहे. इतना ही नहीं स्वैट कमांडो भी पहुंच गए हैं, जो किसी भी तरह के हालात से निपटने के लिए तैयार हैं।
शहंशाहों की शान ओ शौकत को मात देने वाली राम रहीम के आश्रम में ऐसे हजारों राज अभी दफन हैं, जो सालों से बेपर्दा होने के इंतजार में हैं. ये राज जब दुनिया के सामने आएंगे तो बाबा को भगवान मानने वाले भक्त भी हैरान रह जाएंगे। वक्त अब बेहद नजदीक है, जब मैसेंजर ऑफ गॉड बने राम रहीम के बाकी गुनाहों को उसकी लंका से खोद खोदकर निकाला जाएगा। कोर्ट के आदेश के बाद से ही डेरा के आसपास पुलिस और सुरक्षाबलों की घेराबंदी बढ़ा दी गई है. डेरा के रास्ते पर आने-जाने वालों की जांच की जा रही है, ताकि डेरे की तलाशी से पहले गुरमीत के गुनाहों के सुराग और सबूत गायब न कर दिए जाएं. डेरे में फिलहाल न तो गुरमीत सिंह के बेटे-बेटियां हैं न ही पत्नी. बाबा की हनीप्रीत तो 25 अगस्त के बाद से ही कहीं गायब है।