तेल-साबुन और शैंपू की कीमतों में होगी कटौती

नई दिल्ली। वस्तु एवं सेवा कर की दरों को घटाए जाने के बाद केंद्रीय उत्पाद एवं सीमा शुल्क बोर्ड की चेयरमैन वनाजा सरना ने रोजमर्रा की उपभोग वस्तुएं बनाने वाली कंपनियों से सभी उत्पादों की अधिकतम खुदरा मूल्य में तत्काल संशोधन करने के लिए कहा है। 15 नवंबर को जीएसटी परिषद ने डिटर्जेंट, शैम्पू और सौंदर्य प्रसाधन समेत 178 वस्तुओं पर त्रस्ञ्ज की दर को 28 प्रतिशत से घटाकर 18 प्रतिशत कर दिया था। एफएमसीजी कंपनियों को लिखे पत्र में सरना ने सभी उत्पादों की एमआरपी में तत्काल संशोधन करने की जरूरत बताई है, जिन पर जीएसटी घटाने की घोषणा परिषद ने की है। इसके अलावा उन्होंने सभी कंपनियों से अपने उत्पादों की संशोधित एमआरपी का व्यापक प्रचार करने का भी अनुरोध किया है।