दाल के पापड़

विभिन्न प्रकार के पापड़ खाने में बहुत ही स्वादिष्ट और क्रिस्पी लगते हैं। आइए आज दाल के पापड़ बनाए जाएं।
सामग्री:
उड़द दाल आटा- 1.5 कप (200 ग्राम)
मूंग दाल आटा – 1/2 कप से थोडा़ कम (50 ग्राम)
तेल – 3 टेबल स्पून
पापड़ खार – 2 टेबल स्पून (12 ग्राम)
काली मिर्च – 1 टेबल स्पून
नमक – 1/3 छोटी चम्मच या स्वादानुसार
हींग – 1/2 पिंच
तेल – पापड़ तलने के लिए
विधि: काली मिर्च को दरदरा कूटकर आधा कप पानी में डालकर भिगो दीजिए। इस पानी में पापड़ खार डालकर अच्छे से मिक्स कर लीजिए।
आटा गूंथिए
किसी बड़े प्याले में उड़द दाल का आटा लीजिए। इसमें मूंगदाल का आटा, नमक, हींग, 2 टेबल स्पून तेल डालकर अच्छे से मिला लीजिए। इसके बाद, काली मिर्च के पानी को आटे में थोड़ा-थोड़ा डालते हुए पूरी के आटे जैसा सख्त आटा गूंथकर तैयार कर लीजिए। गुंथे आटे को ढककर आधे घंटे के लिए रख दीजिए, आटा सैट होकर तैयार हो जाएगा।
आटे के सैट हो जाने पर हाथ पर थोड़ा सा तेल लगाइए और आटे को मसल-मसल कर नरम आटा तैयार कर लीजिए। आटे को मसल मसल कर नरम करने में लगभग आधे घंटे तक का समय लग जाता है। आप आटे को मसलने के लिए बेलन की सहायता भी ले सकते हैं। बेलन से अच्छे से दबा-दबा कर इसे नरम कर लीजिए।
लोइयां बनाइए
आटे के नरम हो जाने पर आटे के दो भाग करते हुए दो लोई तैयार कर लीजिए। फिर एक लोई लीजिए और इसे 1 या सवा इंच की मोटाई में लम्बा बनाकर तैयार कर लीजिए। इसके बाद, इसे आधा इंच की मोटाई में चाकू की सहायता से काट कर लोईयां तैयार कर लीजिए। लोइयों को बड़े प्याले में डालकर ढककर रख दीजिए ताकि ये सूखें नहीं। दूसरे भाग को भी लम्बाई में करके लोई काट कर तैयार कर लीजिए।
पापड़ बेलिए
जिस पर लोई बेलनी है उस बोर्ड को तेल लगाकर चिकना कर लीजिए। फिर एक लोई उठाकर बोर्ड पर रखिए और लोई पर भी थोड़ा सा तेल लगा कर लोई को बेल लीजिए (तेल लगा लेने से लोई बेलते समय चिपकेगी नहीं)। लोई को बोर्ड पर रखकर इसे हथेली की सहायता से थोडा़ दबा दीजिए। इसे बेलन की सहायता से एकदम पतला बेलकर तैयार कर लीजिए। ध्यान रखे कि इसे किनारे से ही बेलें ताकि यह किनारे से मोटा न रहे। सारे पापड़ इसी तरह बेलकर तैयार कर लीजिए और इतने आटे में लगभग 15 पापड़ बनकर तैयार हो जाते हैं।
पापड़ सुखाइए
पापड़ों को छाया में ही पंखे की हवा के नीचे सूखने के लिए रख दीजिए और हर 1 घंटे में पापड़ों को पलट भी दीजिए ताकि पापड़ दोनों ओर से अच्छी तरह से सूखकर तैयार हो जाएं। 2 से 3 घंटे बाद पापड़ को एक के ऊपर एक लगाकर रख दीजिए। उसके बाद अगले दिन धूप में पापड़ों को सुखाने के लिए इसी तरह बिछाकर पलट-पलट कर 10 से 15 मिनिट की धूप लगाकर सुखा दीजिए। पापड़ को किसी डिब्बे में रख दीजिए और जब भी आपका मन हो पापड़ को निकालकर भूनकर खाने के लिए तैयार कर लीजिए
पापड़ तलिए
पापड़ भूनने के लिए कढ़ाही में तेल डालकर गरम कीजिए और गरम तेल में पापड़ डालिए। फिर, इसे चिमटे की सहायता से पलटिए और हल्का ब्राउन होने पर निकालकर प्लेट में रख लीजिए। पापड़ को कंटेनर में भरकर रखकर आप इन्हें 5 से 6 माह तक खाने के लिए उपयोग में ला सकते हैं।