नई दिल्ली। नोटबंदी के बाद नकदी जमाओं की जांच कड़ी करते हुए इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की उन कारोबारी फर्मों पर निगाह है, जिन्होंने नवंबर दिसंबर में अपनी नकदी बिक्री में अचानक उछाल दिखा रखा है। विभाग ने किसी तरह की संभावित टैक्स चोरी को रोकने के लिए यह कदम उठाया है। एक वरिष्ठ अधिकारी ने ..." />
Breaking News

नकदी बिक्री में अचानक उछाल दिखाने वाली कंपनियों पर इनकम टैक्स की निगाह

नई दिल्ली। नोटबंदी के बाद नकदी जमाओं की जांच कड़ी करते हुए इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की उन कारोबारी फर्मों पर निगाह है, जिन्होंने नवंबर दिसंबर में अपनी नकदी बिक्री में अचानक उछाल दिखा रखा है। विभाग ने किसी तरह की संभावित टैक्स चोरी को रोकने के लिए यह कदम उठाया है। एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि नकदी बिक्री में असामान्य उछाल के हर मामले में सम्बद्ध कंपनी, उपक्रम या कारोबारी फर्म के पिछले महीनों के आंकड़ों से मेल किया जाएगा ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि कारोबारी बिक्री के नाम पर कालेधन को सफेद करने की कोशिश नहीं हो। इनकम टैक्स अधिकारियों के निशाने पर वे फर्म हैं, जिन्होंने नोटबंदी की घोषणा के बाद अपनी नकदी बिक्री या भंडार खरीद में अचानक उछाल दिखाया है। उल्लेखनीय है कि केंद्र सरकार ने 8 नवंबर को नोटबंदी की घोषणा की और 500 और 1000 रुपये के मौजूदा नोटों को चलन से बाहर कर दिया।

Related Posts

error: Content is protected !!