नाबालिगा से वेश्यावृत्ति करवाने के मामले में बड़ा खुलासा

– बाल कल्याण समिति के अध्यक्ष पर अय्याशी करने वाले लोगों से 50 से 60 लाख रुपए वसूली का आरोप
– एक पीडि़त के भाई ने दर्ज करवाया मुकदमा
हनुमानगढ़। पिछले दिनों हनुमानगढ़ जंक्शन पुलिस की ओर से सुरेशिया स्थित एक मकान में नाबालिगा से वेश्यावृत्ति करवाने के पकड़े गये मामले में बड़ा खुलासा हुआ है। नाबालिगा से जिस्मानी संबंध बनाने वाले लोगों के खिलाफ हनुमानगढ़ में मुकदमा दर्ज करवाने वाले बाल कल्याण समिति के अध्यक्ष जोधा सिंह पर 50 से 60 लाख रुपए वसूली का आरोप लगाया गया है। एक पीडि़त के भाई ने जंक्शन पुलिस थाना में मुकदमा दर्ज करवाते हुए संगीन आरोप लगाये हैं।
पुलिस के अनुसार कमल ङ्क्षसह पुत्र बद्री सिंह राजपुरोहित निवासी वार्ड नम्बर 3 पल्लू की रिपोर्ट पर बाल कल्याण समिति के अध्यक्ष जोधा सिंह के खिलाफ धारा 420, 384 में मुकदमा दर्ज किया गया है। कमल सिंह का आरोप है कि पुलिस व बाल कल्याण समिति ने हनुमानगढ़ के सुरेशिया में मंजू अग्रवाल के घर नाबालिगा से वेश्यावृति करवाने का मामला पकड़ा था। इस मामले में महिला थाना पुलिस ने नाबालिगा को बंधक बना कर उसका यौन शोषण करने के मामले में मुकदमा दर्ज हुआ था। नाबालिगा की दिल्ली की रहने वाली थी। पुलिस की सूचना पर नाबालिगा के परिजन दिल्ली पुलिस को लेकर यहां पहुंचे और कई लोगों को गिरफ्तार करके ले गये। इस मामले में जोधा सिंह ने अवैध वसूली शुरू कर दी। जोधा सिंह ने नाबालिगा के मोबाइल फोन की कॉल डिटेल हासिल करके, उन नम्बरों से बातचीत करने वाले लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करवा दिया। इसके उन 17 लोगों से सम्पर्क करके कहाकि उसे 15 लाख रुपए देने होंगे, रुपए मिलने के बाद लड़की के बयान अदालत में बदलवा दूंगा। इस मुकदमे में फंसे लोगों में किसी ने दस लाख तो किसी ने पांच लाख तो किसी ने 3 लाख रुपए देकर मुकदमे से अपना नाम निकलवाया। जोधा सिंह ने रुपए देने वाले लोगों के नाम लड़की के बयानों से निकलवा दिए, तो उनकी जमानत होने लगी।
परिवादी के अनुसार इस मुकदमे में उसके चाचा का बेटा महेन्द्र ङ्क्षसह फसा हुआ था। जोधा सिंह ने उनसे पांच लाख रुपए मांगे। तीन लाख रुपए उसे दे दिए गये और दो लाख रुपए की उधार की गई। जोधा सिंह ने रुपए प्राप्त होने के बाद लड़की के बयान बदलवा दिए, इस पर महेन्द्र सिंह की जमानत हो गई। अब जोधा सिंह उनसे दो लाख रुपए और मांग रहा है साथ ही धमकी दे रहा है कि अगर रुपए नहीं दिए, तो वापिस बयान बदलवा कर फिर मुकदमे में फसा देगा। परिवादी ने आरोप लगाया कि जोधा सिंह ने मोबाइल फोन की डिटेल से नम्बर चिन्हित करके उन लोगों (वह लोग जो वेश्यावृत्ति के अड्डे पर जाते थे) करीब 50 से 60 लाख रुपए वसूले। नाबालिगा के पिता की ओर से दिल्ली में भी मुकदमा दर्ज करवाया गया। यहां जोधा सिंह ने साजिश के तहत महिला पुलिस थाना में मुकदमा दर्ज करवाया और लोगों को जाल में फंसा कर लाखों रुपए की वसूली की। परिवादी के अनुसार जोधा सिंह ने कुछ लोगों से 15 लाख रुपए तक वसूले, बाद में कुछ नगदी वापिस भी कर दी। पुलिस ने बताया कि इस प्रकरण की जांच उप निरीक्षक चन्द्रभान को सौंपी गई है।