निवेशक गोल्ड ईटीएफ से ज्यादा इक्विटीज को दे रहे प्राथमिकता

नई दिल्ली। गोल्ड एक्सचेंज ट्रेडेड फंड्स (ईटीएफ) से निवेशकों की बेरुखी बदस्तूर जारी है। इस वर्ष अप्रैल में निवेशकों ने गोल्ड ईटीएफ से 54 करोड़ रुपये मूल्य के शेयरों की बिक्री कर ली। आंकड़ों के मुताबिक निवेशक गोल्ड ईटीएफ की जगह इक्विटीज में निवेश को प्राथमिकता दे रहे हैं। एसोसिएशन ऑफ म्यूचुअल फंड्स इंडिया (एम्फी) के नवीनतम आंकड़ों के मुताबिक गोल्ड फंड्स का एसेट अंडर मैनेजमेंट (एयूएम) मार्च के 4,806 करोड़ रुपये के मुकाबले घटकर अप्रैल में 4,802 करोड़ रुपये रह गया। पिछले पांच वर्षो के दौरान गोल्ड ईटीएफ को लेकर निवेशकों ने बेहद सुस्त प्रतिक्रिया दी है। वित्त वर्ष 2017-18 में निवेशकों ने गोल्ड ईटीएफ से 835 करोड़ रुपये, 2016-17 में 775 करोड़ रुपये, 2015-16 में 903 करोड़ रुपये, 2014-15 में 1,475 करोड़ रुपये और 2013-14 में 2,293 करोड़ रुपये की निकासी की थी। हालांकि वित्त वर्ष 2012-13 में निवेशकों ने इस सेग्मेंट में 1,414 करोड़ रुपये का निवेश किया था। मॉर्निगस्टार मैनेजर के रिसर्च डायरेक्टर कौस्तुभ बेलापुरकर ने कहा, ‘वर्ष 2005 के बाद सोने के भाव में जबर्दस्त बढ़ोतरी हुई और 2011 के बाद इसने नई ऊंचाइयों को छुआ। लेकिन वर्ष 2012 में यह तेजी से गिरा। दूसरी तरफ, पिछले कुछ समय में इक्विटीज बाजार ने तेज छलांग लगाई है।