BREAKING NEWS
Search

पंचकूला हिंसा फैलाने वालों के लगातार संपर्क में था राम रहीम!

पंचकूला। रेप के जुर्म में जेल की सजा काट रहे गुरमीत राम रहीम के खिलाफ हरियाणा पुलिस ने पंचकूला कोर्ट में सप्लीमेंट्री चार्जशीट दाखिल की है, जिसमें राम रहीम पर देशद्रोह का आरोप लगाया गया है. सप्लीमेंट्री चार्जशीट में राम रहीम को आरोपी नंबर 50 बनाया गया है. हरियाणा पुलिस ने डेरा सच्चा सौदा की कोर कमेटी के सदस्य रहे राकेश इंसा के बयानों के आधार पर राम रहीम पर नए आरोप लगाए हैं. राकेश भी हालांकि अब जेल में है. सप्लीमेंट्री चार्जशीट में स्ढ्ढञ्ज ने दावा किया है कि राम रहीम ने दो शिष्याओं से दुष्कर्म के केस में कोर्ट का फैसला आने से पहले आदित्य इंसां से पूछा था कि पंचकूला के प्लान पर काम कैसा चल रहा है बता दें कि 25 अगस्त, 2017 को पंचकूला की अदालत ने राम रहीम को अपनी दो शिष्याओं से रेप का दोषी करार दिया था और 20 साल की सजा सुनाई. राम रहीम को सजा सुनाए जाने के बाद डेरा समर्थकों ने पंचकूला सहित हरियाणा और देश के अन्य हिस्सों में भी जमकर हिंसा की थी, जिसमें 36 लोगों की मौत हो गई थी. गुरमीत राम रहीम के बिगड़ैल चेलों ने करोड़ों रुपए की सरकारी और निजी संपत्ति को नुकसान पहुंचाया, जिससे पंजाब और हरियाणा सरकार को संपत्ति और राजस्व का करीब 400 करोड रुपए का घाटा हुआ था. सप्लीमेंट्री चार्जशीट के मुताबिक, पंचकूला प्लान के बारे में पूछे जाने पर आदित्य इंसां ने राम रहीम को बताया था कि सब प्लान के मुताबिक है. स्ढ्ढञ्ज का कहना है कि पंचकूला में लाखों लोगों को जुटाने की योजना सिरसा डेरे में ही तैयार हुई थी. हिंसा भड़काने की साजिश में जुटे डेरे के लोग गुरमीत राम रहीम की रहनुमाई और निर्देशों के अनुसार ही काम कर रहे थे. 12 अगस्त 2017 को सिरसा डेरे में तय हो गया था कि फैसले वाले दिन पंचकूला में क्या करना है. चार्जशीट के मुताबिक गुरमीत राम रहीम के खास रहे राकेश इंसां ने बयान दिया है कि 17 अगस्त 2017 को सिरसा स्थित डेरा सच्चा सौदा में 45 सदस्यों की कमेटी की एक मीटिंग हुई थी. इस मीटिंग में तय किया गया था कि पंचकूला में हिंसा फैलाने के लिए किसकी क्या भूमिका होगी. पूरी योजना गुरमीत की मुंहबोली बेटी हनीप्रीत और आदित्य इंसां ने फाइनल की थी. पंचकूला भेजी गई भीड़ को ये बताया गया था कि वहां सत्संग होना है. इसी तरह पंचकूला में डेरे के नामचर्चा घर के इंचार्ज चमकौर सिंह समेत कई लोगों को रुपए जुटाने में लगाया गया और पंचकूला में लोगों के खाने और रहने का इंतजाम करना भी इनके जिम्मे था. लोगों को पंचकूला पहुंचाने के लिए अलग-अलग टीमें लगी थीं. 17 अगस्त 2017 की मीटिंग में यह भी तय हुआ था कि पंचकूला कोर्ट से अगर गुरमीत के खिलाफ फैसला आता है तो सरकार को कैसे हिलाना है और कैसे हिंसा फैलानी है और कैसे राम रहीम को भगाकर ले जाना है. इसके लिए भी एक अलग टीम तैयार की गई थी. गुरमीत राम रहीम को पुलिस से छुड़ाकर भगाने के मकसद के तहत ही पुलिस की गाड़ी का पीछा भी गया किया. लेकिन राम रहीम के चेले डेरा समर्थकों का यह मंसूबा कामयाब नहीं हो सका था. मीटिंग के बारे में राकेश इंसां ने पुलिस को दिए बयान में बताया है कि पूरे प्लान के बारे में उसके सामने ही गुरमीत राम रहीम और आदित्य इंसां की बातचीत हुई थी.