पढ़ाई के दौरान सैक्स रैकेट चलाने लगी थी कातिल प्रिया

– रिमांड के दौरान पूछताछ जारी ठ्ठ फिरौती के लिए युवक की हत्या का मामला
जयपुर। झोटवाड़ा पुलिस थाना क्षेत्र के एक अपार्टमेंट में फिरौती के लिए एक युवक की हत्या करने की आरोपी मुख्य सूत्रदार प्रिया सेठ ने पढ़ाई के दौरान ही सैक्स रैकेट के धंधे में कदम रख लिया था। वह खुद कभी ग्राहक के पास अपना जिस्म सुपुर्द करने नहीं जाती थी। वह केवल दलाली करती थी।
जांच अधिकारी एसएचओ गुरभूपेन्द्र सिंह ने बताया कि शिवपुरी विस्तार निवासी दुष्यंत शर्मा की हत्या करने के आरोप में प्रिया सेठ पुत्री अशोक सेठ निवासी नेहरू कॉलोनी फालना पुलिस थाना पाली, प्रिया सेठ के पे्रमी दीक्षांत कामरा पुत्र राजीव कामरा निवासी मकान नम्बर 266, वार्ड नम्बर 3 इंदिरा कॉलोनी पदमपुर व लक्ष्य वालिया पुत्र सुनील वालिया निवासी मकान नम्बर 1034 चावला चौक पुरानी आबादी श्रीगंगानगर 11 मई तक रिमांड पर चल रहे हैं।
पूछताछ में खुलासा हुआ कि मुख्य सूत्रदार प्रिया सेठ पाली से पढऩे के लिए जयपुर आई थी। यहां पढ़ाई के दौरान महंगे शोक के चलते वह वेश्यावृत्ति के लिए लड़कियों की सप्लाई करने लगी। कुछ ही महीनों में उसके ग्राहकों की संख्या बढ़ गई। प्रिया सेठ दर्जनों लड़कियों के सम्पर्क में थी। लड़की भेजने से पहले ग्राहक से सौदा प्रिया सेठ ही करती थी। रकम भी खुद ही प्राप्त करती थी। सेक्स रैकेट चलाने के लिए प्रिया ने बड़ा नेटवर्क खड़ा कर लिया था। दुष्यंत शर्मा की हत्या करने से पहले वह मोटी रकम ऐंठने के लिए किसी बड़े क्रिकेट सटोरिए-बड़े ज्वैलर्स को अपना शिकार बनाने की फिराक में थी। वह दोस्ती करके उस शख्स को अपना शिकार बनाना चाहती थी, जिसके पास मोटा कैश मिल जाये। प्रिया सेठ करीब चार माह पूर्व ही पदमपुर के दीक्षांत कामरा के सम्पर्क में आई और दो महीने से दोनों लिव एण्ड रिलेशनशिप में एक अपार्टमेंट में रहते थे। वह दीक्षांत को कर्जे से उभारने के लिए शिकार की तलाश कर रही थी। ऐसे में उसने दुष्यंत को ही टारगेट कर लिया। दुष्यंत से उसकी दोस्ती थी।
जांच अधिकारी ने बताया कि दुष्यंत शर्मा की हत्या करने में मुख्य भूमिका प्रिया सेठ व उसके प्रेमी दीक्षांत कामरा की थी। श्रीगंगानगर की पुरानी आबादी चावला चौक निवासी लक्ष्य वालिया तो केवल अपार्टमेंट में दीक्षांत के पास पार्टी करने आया था, लेकिन दुष्यंत शर्मा की हत्या करने में उसने प्रिया सेठ व दीक्षांत कामरा की मदद की थी। लक्ष्य वालिया के परिवार की एक महिला पुरानी आबादी के एक वार्ड की पार्षद रह चुकी है। तीनों ने दुष्यंत शर्मा का बंधक बना कर उसके परिजनों से दस लाख रुपए की फिरौती मांगी और फिर कला दबा कर दुष्यंत की हत्या कर दी थी।