पांच महिलाएं दहेज प्रताडऩा की शिकार

– एक से ससुराल वालों ने पांच लाख मांगे, अश्लील वीडियो भी बना ली
श्रीगंगानगर। महिला थाना पुलिस ने पांच महिलाओं को दहेज के खातिर मारपीट करके घर से निकालने के आरोप में मुकदमे दर्ज किए हैं। पीडि़त महिलाओं का आरोप है कि ससुराल वालों ने मोटी रकम मांगी, लेकिन पीहर वाले नहीं दे पाये तो उन्हें घर से निकाल दिया। दो मामलों ने पति ने बहुत ज्यादती भी की। एक महिला की उसके पति ने ही अश£ील वीडियो बना डाली।
पुलिस के अनुसार पुरानी आबादी उदाराम चौक निवासी एक महिला ने रिपोर्ट दी कि उसकी शादी 2 नवम्बर 2001 को गांव 65 आरबी रायसिंहनगर निवासी हरजीत सिंह के साथ हुई थी। शादी में उसके पीहर पक्ष ने हैसियत से अधिक दान दहेज दिया था। इसके बावजूद ससुराल वाले पांच लाख रुपए और मांग रहे थे। वह नगदी नहीं लेकर आई, तो उसके साथ मारपीट की। उसके पति ने मोबाइल फोन से उसकी अश£ील वीडियो बना ली। उसके साथ अप्राकृतिक मैथुन किया। पति ने अश£ील वीडियो को इंटरनेट पर डालने की धमकी दी। पुलिस ने पति हरजीत सिंह, देवर सुखविन्द्र सिंह, सास चरणजीत कौर, ननद परमजीत कौर, मनजीत कौर व ननदोई बलजीत सिंह के खिलाफ मामला दर्ज किया है। दूसरा मुकदमा समता पुत्री कश्मीरीलाल निवासी रविदासनगर ने दर्ज करवाया है। समता ने रिपोर्ट दी कि पति हरप्रीत सिंह, सुरजीत सिंह, कमलजीत कौर सास ने दहेज की मांग पूरी नहीं होने पर मारपीट करके घर से निकाल दिया। तीसरा मुकदमा ममता रानी निवासी खाटलबाना ने दर्ज करवाया है। ममता ने पुलिस को बताया कि उसके पति पवन कुमार, ससुर रामकुमार पुत्र दूलाराम व देवर सुरेन्द्र कुमार ने दहेज की मांग पूरी नहीं होने पर उसके साथ मारपीट की। इसी थाना में चौथा मुकदमा पूजा पत्नी अनिल कुमार निवासी 4 जैड ने दर्ज करवाया है। पूजा ने रिपोर्ट दी कि उसके पति अनिल कुमार, कृष्णा देवी, कांता रानी पत्नी अजय निवासी ढींग सिरसा हरियाणा ने दहेज की मांग करते हुए उसके साथ मारपीट की और घर से निकाल दिया। पांचवा मुकदमा एसएसबी रोड स्थित एक महिला ने दर्ज करवाया है। उसने बताया कि उसकी शादी जनवरी 2017 में रोहिताश पुत्र रामनाथ निवासी अलीगढ़ यूपी के साथ हुई थी। शादी के एक माह बाद ही ससुराल में उसे दहेज और लाने पर प्रताडि़त किया जाने लगा। पति रोहिताश, ससुर रामनाथ, हरीशचन्द्र व अन्य लोगों ने अढ़ाई लाख रुपए की मांग की। रुपए नहीं लाकर देने पर उसके साथ मारपीट की। वह अपने पीहर श्रीगंगानगर आ गई।