BREAKING NEWS
Search

पाक को सुंजवां हमले के सबूत भी देंगे और जवाब भी: निर्मला सीतारमण

नईदिल्ली। रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने जम्मू के सुंजवां सैन्य कैंप हुए आतंकी हमले के लिए सीधे तौर पर पाकिस्तान को कसूरवार ठहराया है। उन्होंने दोटूक शब्दों में कहा कि पाक को हम इस हमले के सबूत भी देंगे और जवाब भी। उसे इस करतूत की कीमत चुकानी पड़ी। मामले की जांच एनआईए को सौंपी गई है जो जल्द अपनी रिपोर्ट देगा। रक्षा मंत्री ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में सोमवार को बताया कि सुंजवां में सेना का ऑपरेशन खत्म हो चुका है। हमले के पीछे पाक स्थित आतंकी गुट जैश-ए-मोहम्मद और इसके सरगना मसूद अजहर का हाथ है। उसी ने हमले के लिए आतंकियों को पाकिस्तान से भेजा था। ये आतंकी कुछ दिन पहले ही घुसपैठ कर सेना की वर्दी में जम्मू में दाखिल हुए थे। उन्होंने हमलावर आतंकियों को स्थानीय मदद मिलने से भी इनकार नहीं किया। उन्होंने कहा कि खुफिया इनपुट मिले हैं कि इन आतंकियों को सीमापार बैठे आका लगातार निर्देश दे रहे थे। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान को हर बार आतंकी हमलों में उसका हाथ होने के सबूत दिए जाते हैं लेकिन उस पर कोई असर नहीं होता है पर इस बार उसे इसका भारी नुकसान उठाना पड़ेगा। हमले में पांच जवान शहीद हुए हैं और एक नागरिक की भी मौत हुई है। सेना ने तीन आतंकियों को जवाबी कार्रवाई में मार गिराया। रक्षा मंत्री के मुताबिक, खबरों में चार आतंकियों के होने की बात सामने आ रही है लेकिन हो सकता है कि चौथा आतंकी गाइड बनकर आया हो और कैंप के अंदर न गया हो। इससे पहले रक्षा मंत्री ने सैन्य अस्पताल में जाकर घायलों से मुलाकात की। साथ ही जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती से राज्य के हालातों पर चर्चा भी की। सुंजवां सैन्य ब्रिगेड पर हुए हमले की जानकारी लेने के बाद रक्षामंत्री ने पत्रकारों से आतंकी हमले के पूरे घटनाक्रम की जानकारी साझा की। उन्होंने कहा कि हमला पाक प्रायोजित जैश-ए-मोहम्मद ने किया है। पाकिस्तान में रहने वाले अजहर मसूद ने वहां रहकर हमले का समर्थन किया है। उन्होंने कहा कि आतंकी हमले के इनपुट से हम पहले से अलर्ट थे। हमने क्यूआरटी को संवेदनशील स्थानों पर तैनात किया था। पाक प्रायोजित आतंकियों की ओर से सॉफ्ट टारगेट को निशाना बनाए जाने की आशंका पर सुंजवां क्वॉर्टर में भी क्यूआरटी की तैनाती की गई थी। बताया कि आतंकियों के दाखिल होने के बारे में संतरी को तत्काल जानकारी हो गई थी। इस वजह से तत्काल क्यूआरटी ने आतंकियों को चुनौती दी और मुठभेड़ शुरू हो गई। इससे घबराकर आतंकियों को एक साथ रहने के बजाय भागकर अकेले-अकेले रहने को मजबूर होना पड़ा। सेक्स स्कैंडल आरोप के बाद ऑक्सफैम की डिप्टी चीफ पेनी लॉरेंस ने दिया इस्तीफा ऑक्सफैम की डिप्टी प्रमुख पेनी लॉरेंस ने हैती में ब्रिटिश चैरिटी कर्मचारियों के व्यवहार की पूरी जिम्मेदारी लेते हुए सोमवार को अपना इस्तीफा दे दिया। चैरिटी के कर्मचारियों पर यह आरोप है कि सेक्स पार्टी के लिए उन्होंने वेश्याओं को रखा। लॉरेंस ने एक बयान जारी कर कहा कि इस समय प्रोग्राम डायरेक्टर होने की वजह से मैं शर्मिंदा महसूस कर रही हूं। उन्होंने कहा कि मैं महसूस करती हूं कि यह मेरी निगरानी में हुआ और मैं इसकी पूरी जिम्मेदारी लेती हूं। लिहाजा मैंने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। ब्रिटिश सरकार ने हैती में यौन शोषण कांड के बाद ऑक्सफैम की आलोचना की थी। 2010 के भीषण भूकंप के बाद इस यौन शोषण कांड में चैरिटी के कुछ कर्मचारी शामिल हैं। यह भी आरोप लगाया कि ऑक्सफैम चैरिटी ने विस्तृत रिपोर्ट मुहैया नहीं कराई। पिछले साल ऑक्सफैम को चैरिटी के रूप में 31.7 मिलियन पाउंड मिले थे। ऑक्सफैम के वरिष्ठ अधिकारी ने कहा था कि वह इस मामले में कार्रवाई कर रहे हैं। अगर किसी भी प्रकार अधर्म, दुरुपयोग, धोखाधड़ी या आपराधिक गतिविधियां पाई जाती हैं तो हम इसका तुरंत पता लगाएंगे।