BREAKING NEWS
Search

पीएम के झुंझुनूं दौरे के बाद संभव है राज्य मंत्रिमंडल में बदलाव

– क्या होगा डॉ. रामप्रताप और सुरेन्द्रपाल टीटी का?
श्रीगंगानगर। चर्चा है कि मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे आठ मार्च को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के झुंझुनूं दौरे के बाद राज्य मंत्रिमंडल में बदलाव कर सकती हैं। इस बदलाव का श्रीगंगानगर और हनुमानगढ़ जिले पर क्या असर होगा, इस पर चर्चा शुरू हो गई है। मंत्रिमंडल फेरबदल में खान राज्य मंत्री सुरेन्द्रपाल सिंह टीटी का पद कायम रहेगा या उनसे खान विभाग छिन जाएगा, या फिर हनुमानगढ़-श्रीगंगानगर जिलों से किसी नए चेहरे को झंडी लगी कार में बैठने का मौका मिलेगा, या जल संसाधन मंत्री डॉ. रामप्रताप को कोई नया महकमा मिलेगा, या फिर डॉ. रामप्रताप को संगठन में महत्वपूर्ण जिम्मेदारी मिलेगी, इस बारे में भाजपा में चर्चाओं का बाजार गर्म हो गया है।
भाजपा सूत्रों की मानें तो उप चुनावों में हार से सहमा पार्टी आलाकमान आगामी विधानसभा चुनाव में पार्टी की जीत सुनिश्चित करने के लिए मतदाताओं को लुभाने के लिए कोई कसर नहीं छोडऩा चाहता। आलाकमान के निर्देश पर पहले मुख्यमंत्री लोक लुभावन बजट पेश किया। अब कल फिर सीएम ने स्टेट हाईवे पर टोल टैक्स खत्म करके और किसानों के पचास हजार रुपए तक के कर्जे माफ मतदाताओं को खुश करने की कोशिश की है।
इसी कवायद के अगले चरण में राज्य मंत्रिमंडल का बदलाव होने की चर्चा व्यापक हो गई है। प्रदेश में उप चुनावों में हार के बाद वसुंधरा राजे अपनी सरकार के परफॉरमेंस को और बेहतर करने और मंत्रिमंडल में व्याप्त कमियों को दूर करने के लिए जल्द ही इसमें बदलाव कर सकती है। उपचुनावों के बाद हालांकि इसकी चर्चाएं शुरू हो गई थीं, लेकिन मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के रविवार को जयपुर में भाजपा प्रदेश कार्यालय में मीडिया के सवालों पर दिए जवाब से इसकी चर्चाएं और तेज हो गई हैं। राजे ने मंत्रिमंडल में बदलाव के बारे मेें पूछे जाने पर कहा कि आपको लगता नहीं है कि प्रदेश में सब कुछ बोरिंग हो रहा है।
सीएम की इस बात के साफ मायने बदलाव के निकाले जा रहे हैं कि वे मंत्रिमंडल विस्तार की ओर बढ़ रही हैं।
सूत्रों के अनुसार मंत्रिमंडल में शामिल सभी मंत्रियों की परफॉरमेंस देखी जा रही है। जिन राज्य मंत्रियों की परफॉरमेंस बढिय़ा है, उनका प्रमोशन हो सकता है। खराब परफॉरमेंस वाले मंत्रियों की छुट्टी भी संभव है। कुछ मंत्रियों के विवादों में आने के चलते उनके विभाग बदले जा सकते हैं या फिर उन्हें आगामी चुनावों को देखते हुए संगठन के लिए काम करने का जिम्मा दिया जा सकता है।
सूत्रों के अनुसार जिन महत्वपूर्ण विभागों में मंत्रियों की परफॉरमेंस ठीक नहीं रही है, उनकी जगह बेहतर परफॉरमेंस वाले मंत्रियों को जिम्मेदारी देने के साथ ही क्षेत्रीय राजनीति में संतुलन बनाए रखने के लिए कुछ नए चेहरों को मौका दिया जा सकता है। श्रीगंगानगर और हनुमानगढ़ जिलों से डॉ. रामप्रताप और सुरेन्द्रपाल सिंह टीटी राज्य मंत्रिमंडल मेंं हैं। संभावित फेरबदल में ये दोनों नेता क्या खोते हैं और क्या पाते हैं, यह क्षेत्र की राजनीति के लिहाज से महत्वपूर्ण बात होगी।