पैन कार्ड को आधार से जोडऩे में आ रही परेशानी

श्रीगंगानगर। मुकेश कुमार गुप्ता को अपने नाम की वजह से टैक्स रिटर्न फाइल करने में परेशानी हो रही है क्योंकि उनका पैन और आधार कार्ड मैच नहीं हो पाया है। उन्होंने अपने अकाउंटेंट से संपर्क किया तो उन्हें समस्या की वजह पता चली। दरअसल, मुकेश का पैन कार्ड मुकेश कुमार गुप्ता के नाम से बना है जबकि आधार कार्ड के डेटा बेस में उनका नाम मुकेश गुप्ता दर्ज है। इसलिए, सिस्टम ने इसे लिंक करने से इनकार कर दिया। ऐसी ही समस्या इलाके के लाखों लोगों के साथ हो सकती है क्योंकि टैक्स रिटर्न फाइल करने के लिए सरकार ने 31 जुलाई तक पैन को आधार कार्ड से जोडऩा अनिवार्य कर दिया है। चार्टेड अकाउंटेंट्स के पास इस तरह की समस्या लेकर पहुंचने वालों की संख्या काफी बड़ी है। छोटी-मोटी गड़बडिय़ों को भी मैनुअली नहीं सुधारा जा सकता है, ऐसे में चार्टर्ड अकाउंटेंट्स से मदद मांगने वालों की भीड़ लगने लगी है। किसी का आधार कार्ड में कोई नाम है तो किसी पैन कार्ड में कोई और नाम। जब तक दोनों नाम एक समान नहीं होंगे, उनके आधार कार्ड को पैन कार्ड से लिंक नहीं किया जा सकेगा। ऐसे में ये लोग इनकम टैक्स रिटर्न फाइल नहीं कर पाएंगे।
जानकारों के अनुसार आधार स्पेशल कैरेक्टर्स और डॉट्स वाले नामों में ये दिक्कतें आ रही हैं। इन्हें आधार कार्ड का सिस्टम नहीं पहचानता है जबकि पैन पहचान लेता है। स्पेशल कैरेक्टर्स वाले उपनामों, डॉट्स वाले उपनामों की वजह से लिंकिंग इशूज आते हैं। मसलन, पी.के. गुप्ता का पूरा नाम पवन कुमार गुप्ता है। उनके पैन कार्ड में पवन कुमार गुप्ता नाम ही है जबकि आधार कार्ड में पी.के.गुप्ता लिखा है। विवाह के बाद अपने नाम में कुछ बदलाव करने वाली महिलाओं के साथ भी समस्या आ रही है। किसी महिला ने पिता के उपनाम के बाद अपने पति का उपनाम भी अपने नाम के साथ लगा लिया है तो उसके साथ समस्या आना तय है। जैसे कि किसी महिला का नाम शीला जिंदल है और उसने शादी के बाद पति का उपनाम जोड़कर अपना नाम शीला जिंदल सिंगला कर लिया है तो सिस्टम इसे गलत बता देगा।
इनका कहना है
अगर आधार कार्ड और पैन कार्ड में किसी व्यक्ति के अलग-अलग नाम हैं तो उनका आधार कार्ड पैन कार्ड से लिंक नहीं होगा। ऐसे में वे रिटर्न भी नहीं भर पाएंगे। उन्हें आधार अथवा पैन मेंं सुधार करवा लेना चाहिए।
-दीपक गोल्याण, चार्टेड अकाउंटेंट, श्रीगंगानगर।