पोषक तत्वों का खजाना है कटहल

कटहल एक ऐसा फल है जिसे कच्चा भी खाया जा सकता है और पकाकर भी खाया जा सकता है। लेकिन आप इसे सिर्फ स्वाद के लिए न खाएं। इसमें असंख्य गुण हैं जिनका सामान्यत: लोगों को पता भी नहीं है। यह कार्बोहाइड्रेट का बेहतरीन स्रोत है और इसमें ऐसी कैलोरी पायी जाती है जो इंटैंट ऊर्जा देती है। इसमें एंटीआक्सीडेंट पाए जाते हैं जो कि कैंसर से बचाव करते हैं। यह उम्र घटाती है और कई किस्म की बीमारियों को हमसे दूर रखती है। यही नहीं कटहल हमारी आंखों की रोशनी के लिए भी बहुत उपयोगी है। इसमें पोटाशियम आदि तत्व भी भरपूर मात्रा में मौजूद हैं। लेकिन इतने ही इसके गुण नहीं है। इसके गुणों की फेहरिस्त बहुत लंबी है।
कटहल विटामिन सी का बेहतरीन स्रोत है जो कि हमारे प्रतिरक्षी तंत्र के लिए काफी उपयोगी है। अध्ययनों से पता चलता है कि विटामिन सी मिथानोल और इथानोल कंपाउंड से बेहतर एंटीआक्सीडेंट है। इतना ही नहीं कटहल कई किस्म की बीमारियों में भी कारगर है मसलन ठण्ड, फ्लू, खासी आदि। अत: यदि आपने अब तक अपने खानपान में कटहल शामिल नहीं किया है तो तुरंत करें।
हेल्दी कैलोरी
अगर आप ऐसे पेशे से जुड़े हैं जिसमें आपको हर समय तुरत फुरत एनर्जी की जरूरत होती है तो कटहल को अपनाएं। दरअसल कटहल किसी भी अन्य फल से ज्यादा हेल्दी है। इसमें ऐसी कैलोरी पायी जाती है जो तुरंत एनर्जी देने के लिए सहायक है। इसमें अच्छी खासी मात्रा में कार्बोहाइड्रेट पायी जाती है। लेकिन बेहतरीन तथ्य यह भी इसमें नाम मात्र वसा होती है। यह फल उन तमाम लोगों के लिए उपयोगी है जो पतला होना चाहते हैं पर किसी कारणवश हो नहीं पाते। इससे उन्हें पर्याप्त मात्रा में कैलोरी मिलती रहेगी साथ ही वसा का कोई खौफ भी नहीं होगा। इसमें हेल्दी मात्रा में शुगर भी पायी जाती है। इसकी एक अच्छी बात यह है कि इसे पचाना आसान है। मतलब यह कि इसे कोई भी खा सकता है। जो लोग डायबिटीज के मरीज हैं, वे भी इसे बेझिझक खा सकते हैं।
स्वस्थ कार्डियोवस्कुलर सिस्टम
मौजूदा जीवनशैली ने लोगों को सबसे ज्यादा हृदय संबंधि बीमारी का ही मरीज बनाया है। लेकिन जो लोग कटहल खाते हैं, वे हृदय संबंधि रोगों से दूर ही रहते हैं। क्या आप जानते हैं क्यों दरअसल कटहल में पोटाशियम होता है। पोटाशियम उन महत्वपूर्ण तत्वों में से एक है जो कि ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करता है। हमारे शरीर को प्रतिदिर कम से कम 4700 मिलिग्राम पोटाशियम की जरूरत होती है। पोटाशियम की कमी से हमारे शरीर में कई किस्म की समस्याएं हो सकती हैं। इनमें से ज्यादातर हमारे हृदय से जुड़ी हेाती हैं। पोटाशियम मसल फंक्शन को भी नियंत्रित करता है। इसमें हार्ट मसल्स भी शामिल है।
पाचन तंत्र को बेहतर करना
जैसे ही आप कटहल काटते हैं वह गूदा से भरपूर नजर आता है। यही गूदा आपके स्वास्थ्य के लिए बहुत उपयोगी है। दरअसल यह नर्म हिस्सा फाइबर है जो कि पाचन तंत्र को बेहतर करता है। वास्तव में जो लोग कटहल खाना पसंद करते हैं उनका पेट अकसर साफ रहता है। इसके पीछे यही वजह है शरीर के अनुपयोगी चीजों को कटहल आंत में धकेल देता है। इससे पेट साफ रहता है और कब्ज जैसी समस्या नहीं होती। मतलब यह कि जो लोग नाइट शिफ्ट में काम करते हैं या फिर जिनकी शिफ्टिंग जॉब है, उनके लिए यह बेहतीन विकल्प है।
कोलोन कैंसर और पाइल्स से बचाव
मलाशय में चोट या किसी तरह की क्षति होने से कैंसर होने का खतरा बनता है। अत: यदि किसी मरीज के मलाशय में चोट या अन्य कोई समस्या हो तो उन्हें कटहल खाना चाहिए क्योंकि इससे मलाशय में हुई चोट ठीक होती है और कैंसर होने से रोकती है। इसके अलावा जिन्हें पाइल्स की शिकायत है, उनके लिए भी कटहल उपयोगी फल है, क्यों कि इसमें फाइबर प्रचुर मात्रा में पाया जाता है।
मोटापा कम करे
कटहल के सेवन से मोटापा कम हो सकता है। इसमें मौजूद फाइबर पेट को हेल्दी रखता है। पका हुआ कटहल स्वादिष्ट होने के साथ वजन कम करने में मदद करता है। इसकी सब्जी भी फायदेमंद होती है।
कटहल का बीज में है पोषक तत्व
कटहल के बीज में पोटैशियम, प्रोटीन, आयरन और कैल्शियम प्रचुर मात्रा में होती है। 3.5 आउंस में 7 ग्राम प्रोटीन, 38 ग्राम कार्बोहाइड्रेट, 1.5 ग्राम फाइबर होता है। यह एक व्यक्ति के सेवन के संदर्भ में 6 प्रतिशत है।