BREAKING NEWS
Search

प्रदर्शन के बाद शुरू हुआ वार्ता का दौर

– संजय महिपाल के वक्तव्य पर नाराज सफाई कर्मियों को मनाने का प्रयास
श्रीगंगानगर। मुख्यमंत्री जन स्वावलम्बन अभियान के शुभारम्भ समारोह में यूआइटी अध्यक्ष संजय महिपाल के एक वक्तव्य को लेकर वाल्मीकि समाज के लोगों में रोष व्याप्त है।
इसी के चलते नगर परिषद के सफाई कर्मचारियों ने महिपाल के खिलाफ कानूनी कार्यवाही की मांग करते हुए आंदोलन शुरू कर दिया है। आंदोलन के तहत परिषद के सफाई कर्मचारी शनिवार को हड़ताल पर रहे।
इस दौरान सफाई कर्मचारी यूनियन के पदाधिकारियों से वार्ता का दौर शुरू हो गया है। शनिवार दोपहर में सभापति अजय चाण्डक व नगर परिषद आयुक्त सुनीता चौधरी के निमंत्रण पर वार्ता के लिए पहुंचे अखिल भारतीय सफाई मजदूर कांगे्रस के पदाधिकारियों ने महिपाल के खिलाफ मुकदमा दर्ज किये जाने तक आंदोलन जारी रखने की बात कही। इस पर समझाइश करते हुए उनके समक्ष प्रस्ताव रखा गया कि यदि संजय महिपाल खेद व्यक्त कर लें तो सफाई कर्मचारी हड़ताल समाप्त करने पर सहमत हो सकते हैं। सफाई कर्मचारी प्रतिनिधियों ने सोच विचार कर निर्णय के लिए दोपहर 3 बजे तक का समय मांगा है।
इससे पहले सफाई कर्मचारियों ने जिला कलक्टर के निवास पर प्रदर्शन किया गया। प्रदर्शन के दौरान उन्हें ज्ञापन सौंपकर संजय महिपाल के खिलाफ मुकदमा दर्ज करवाने की मांग से अवगत करवाया गया। जिला कलक्टर ज्ञानाराम ने सफाई कर्मचारियों को कानून सम्मत कार्यवाही का आश्वासन दिया है। प्रदर्शन व सभा में रामशरण कोचर, उमेश वाल्मीकि, बन्टी वाल्मीकि, समीर वाल्मीकि, प्रेम भाटिया, मोहन बेदी, अनिल धारीवाल, दीपक चांवरिया, लालूराम चांवरिया, संजय सलोत्रा, विजय चांवरिया सहित बड़ी संख्या में सफाई कर्मचारी शामिल हुए।
इधर अखिल भारतीय सफाई मजदूर संघ व जिला वाल्मीकि सभा की ओर से मुख्यमंत्री को ज्ञापन भेजकर संजय महिपाल को यूआइटी के अध्यक्ष पद से निलम्बित करने की मांग की गई है।