प्रेग्नेंसी से जुड़े हैं ये झूठ, गलती से भी ना करें विश्वास

प्रेग्नेंसी का वक्त हर महिला के जीवन का सबसे खास वक्त होता है। यह वह दौर होता है जब एक महिला इसके एक एक पल को महसूस करना चाहती है। इस वक्त महिलाओं के लिए शारीरिक और मानसिक रूप से स्वस्थ रहना बहुत जरूरी होता है। इस दौरान डॉक्टर भी महिलाओं को कई तरह के सुझाव देते हैं। बल्कि ना सिर्फ डॉक्टर बल्कि घर और आस-पड़ोस की महिलाएं और बड़े बुजुर्ग भी आपको कई तरह की सलाह देते हैं। लेकिन इनमें से कुछ बातें सच तो कुछ बातें झूठ होती हैं। आज हम आपको ऐसी ही कुछ बातों के बारे में बताने जा रहें है जिन्हें आप सच मान लेते है लेकिन असल में वो झूठ होती है। आइए जानते हैं क्या हैं वो बातें
बच्चे का अंदाजा
आपने अपने आसपास कई लोगों को यह कहते सुना होगा कि वो महिला का गर्भ देखकर शिशु के लिंग का अंदाजा बता देते हैं। जबकि ये बिल्कुल झूठ है। जिसके चलते कुछ महिलाएं अपेक्षा के अनुसार उत्तर ना मिलने पर उदास हो जाती हैं। जबकि प्रैग्नेंसी के दौरान बेबी बंप का शेप पेट के आकार, चर्बी, मांसपेशयिों और यूट्रेस के अंदर बच्चे की पोजिशन पर निर्भर करता है। इसलिए कभी भी इस बात पर विश्वास ना करें कि सामने वाला जो बोल रहा है वह सच ही है।
सीने में जलन
गर्भावस्था के दौरान महिलाओं के सीने में जलन बहुत ही आम समस्या होती है। ऐसे में लोग इसके लिए कहते हैं कि ऐसा तब होता है जब हार्टबर्न तेज होती है तो बच्चे के बालों की ग्रोथ अच्छी होती है, यह पूरी तरह गलत है। इस दौरान भोजन एसिड फूड पाइप की ओर आ जाता है, जिससे हार्टबर्न की समस्या हो जाती है।
सुबह के वक्त कमजोरी
प्रेग्नेंसी में महिलाओं को सुबह के वक्त कमजोरी महसूस होती है। कुछ लोगों का मानना है कि इसका मतलब है मां के गर्भ से बच्चे को ठीक तरह पोषण नहीं मिल रहा है। जिसके चलते बच्चा कमजोर हो सकता है। ऐसा नहीं है, बल्कि हर सुबह आपके वॉमिटिंग करने का मतलब है कि आपको बच्चा गर्भ में पूरी तरह सुरक्षति है।
व्यायाम करना
कुछ लोगों का मानना है कि एक्सरसाइज करने से बच्चे को नुकसान पहुंचता है और बच्चे के अंग उतने मजबूत नहीं होते हैं। जब आप इस संबंध में डॉक्टर की सलाह लेंगे तो जानेंगे कि प्रैग्नेंसी के दौरान हल्की-फुल्की एक्सरसाइज करने से बच्चा स्वस्थ होता है। साथ ही मां भी शारीरिक और मानसिक तौर पर स्वस्थ महसूस करती है।
हवाई सफर
महिलाओं को गर्भावस्था में हवाई सफर करने से परहेज करने को कहा जाता है। लोग अफवाह के तौर पर कहते हैं कि इस दौरान हवाई सफर करने से बच्चे को नुकसान हो सकता है। जबकि डॉक्टर मानते हैं कि प्रेग्नेंसी में सुरक्षा के साथ हवाई सफर कर सकते है। केवल आखिरी महीनों में इससे परहेज करना चाहिए।