फिट और सैक्सी बॉडी अच्छी एक्टिंग का ऑप्शन नहीं हो सकती

मुंबई (एसबीटी न्यूज)। अभिनेत्री स्वरा भास्कर को यह कहने में कोई हिचक नहीं कि सुडौल, छरहरी बाहें पाना उनके लिए एक अभिनेत्री के तौर पर हमेशा बड़ी चुनौती है। हालांकि, उनका मानना है कि सुडौल काया अच्छी प्रस्तुति की गारंटी नहीं होती। स्वरा ने मुंबई से फोन पर दिए साक्षात्कार में बताया, बेशक हम सब अभी भी सुडौल काया पसंद करते हैं, लेकिन दर्शक अब इस विचार से छिटकते जा रहे हैं कि सुडौल काया और खूबसूरत दिखने वाले लोग ही बढिय़ा कहानी, पटकथा, और प्रदर्शन का विकल्प हो सकते हैं। फिल्म ‘निल बट्टे सन्नाटा में मां के रूप में प्रभावशाली अभिनय कर बतौर सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री स्टार स्क्रीन अवाड्र्स 2016 पाने वाली सांवली सलोनी स्वरा कहती हैं कि लंबे अर्से के बाद अब इस सोच में बदलाव आया है और सामान्य पृष्ठभूमि के लोग भी फिल्म जगत में कदम रख रहे हैं। जाने-माने सामरिक विश्लेषक सी उदय भास्कर और फिल्म अध्ययन की प्रोफेसर इरा भास्कर की बेटी को लगता है कि भारतीय फिल्म उद्योग परंपरागत मान्यताओं से अलग अब नए चेहरों और भावपूर्ण अभिनय करने वाले कलाकारों को ज्यादा तवज्जो दे रहा है। स्वरा ने कहा कि फिल्मकारों को नए चेहरे, नए कलाकारों और अभिनय प्रतिभा की जरूरत है और नए कलाकार उम्दा अभिनय कर रहे हैं। मराठी फिल्म ‘सैराट में कोई बड़ा कलाकार न होने के बावजूद फिल्म ने बढिय़ा प्रदर्शन किया। स्वरा कहती हैं कि सभी ने उन्हें ‘निल बट्टे सन्नाटा नहीं करने की सलाह दी थी और वह खुद भी एक मां की भूमिका निभाने को लेकर पसोपेश में थी, लेकिन फिल्म की सफलता ने उन्हें भविष्य में और भी कई चुनौतीपूर्ण भूमिकाओं को स्वीकारने के लिए प्रोत्साहित किया है। फिलहाल स्वरा शहरी कॉमेडी और रिश्तों की उलझन पर आधारित निर्देशक गौरव सिन्हा की एक अनाम फिल्म को लेकर उत्साहित हैं।