फोकस तैयारी पर है, मनोवैज्ञानिक दबाव के बारे में नहीं सोच रहे: बुमराह

रांची। आस्ट्रेलिया के खिलाफ वनडे श्रृंखला में 4-1 से जीत और टी20 प्रारूप में पिछले प्रभावी प्रदर्शन से भारतीय टीम को भले ही मनोवैज्ञानिक बढत हासिल हो गई हो लेकिन तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह ने कहा कि मेजबान टीम का फोकस विरोधी पर नहीं बल्कि अपनी तैयारियों पर है। आस्ट्रेलिया के खिलाफ यहां जेएससीए स्टेडियम पर पहले टी20 मैच से पहले बुमराह ने पत्रकारों से कहा ,”हम इस तरीके से चीजों को नहीं देखते। मनोवैज्ञानिक दबाव के बारे में सोचने की बजाय हम अपनी तैयारियों पर फोकस करने में भरोसा करते हैं। हमें अपने बेसिक्स पर ध्यान रखना है और नतीजे खुद ब खुद मिलेंगे।ÓÓ भारत के खिलाफ आस्ट्रेलिया का टी20 रिकार्ड बहुत अच्छा नहीं है और अब तक 13 मैचों में से सिर्फ चार में उसे जीत मिली है। पिछली बार मोहाली में 2016 टी20 विश्व कप में उसे सात विकेट से हराकर भारत ने सेमीफाइनल में जगह बनाई थी। वनडे क्रिकेट में डैथ ओवरों के गेंदबाज के रूप में स्थापित हो चुके बुमराह ने कहा कि प्रारूप बदलने का प्रदर्शन पर असर नहीं पड़ेगा। उन्होंने कहा , ”भारत के लिये खेलना ही सबसे बड़ी प्रेरणा है। प्रारूप चाहे जो भी हो , देश के लिये खेलना गर्व की बात है। हम वनडे के बाद अब टी20 में भी अनुकूलन में देर नहीं लगायेंगे।ÓÓ यह पूछने पर कि भुवनेश्वर कुमार के साथ तेज गेंदबाजी में भारत के स्ट्राइक गेंदबाज का दर्जा पाने के बाद कैसा महसूस करते हैं, ” हम एक दूसरे से लगातार सीखते रहते हैं और सीनियर्स से पूछते रहते हैं कि अपने प्रदर्शन में सुधार कैसे किया जाये। इसी से प्रदर्शन में निखार आता है।ÓÓ अनुभवी आशीष नेहरा की टीम में वापसी को अच्छा बताते हुए उन्होंने कहा कि नेहरा से काफी कुछ सीखने को मिलता है।