बंधुआ मजदूर बनाकर बच्ची के साथ करते थे घरेलू हिंसा

हैदराबाद (तेलांगना)। यहां एक सेवानिवृत सरकारी कर्मचारी द्वारा बाल मजदूरी के नाम पर 13 वर्षीय बच्ची के साथ घरेलू हिंसा का मामला सामने आया है। हालांकि जानकारी मिलने पर एक एनजीओ की पहल से बच्ची को उनके चंगुल से छुड़ा लिया गया। सूचना मिलने पर बच्चों के अधिकारों के लिए काम करने वाले एनजीओ बलाला हक्कुला संगम ने चाइल्ड लाइन व डिस्ट्रिक्ट चाइल्ड प्रोटेक्शन के साथ मिलकर वनस्थली पुरम स्थित इंजीनियर्स कॉलोनी में रहने वाले के भीम रेड्डी के घर पर छापा मारा और बच्ची को बचा लिया। डिस्ट्रिक्ट चाइल्ड प्रोटेक्शन यूनिट के अधिकारियों के मुताबिक, वानापर्थी के बलीजा पली की रहने वाली लड़की पिछले छह महीने से रिटायर्ड इंजीनियर के घर बंधुआ मजदूर के तौर पर रह रही थी। इसके लिए उसके पिता शंकर को 20 हजार रुपये चुकाया गया था।