बंशीधर जिंदल की पारिवारिक फर्म जीडी ऑटो मोटर्स पर मुकदमा

– हनुमानगढ़ नगर परिषद की फायर बिग्रेड गाड़ी का ओरिजनल इंजन निकाल पुराना लगाने का आरोप
– अशोक लीलैंड कम्पनी को भी बनाया पार्टी
हनुमानगढ़। फायर बिग्रेड गाड़ी का ओरिजनल इंजन निकाल कर उसमेें पुराना इंजन लगाकर धोखाधड़ी करने आरोप में श्रीगंगानगर के चैम्बर ऑफ कॉमर्स के अध्यक्ष बंशीधर जिंदल की पारिवारिक फर्म जीडी ऑटो मोटर्स तथा अशोक लीलैंड कम्पनी के खिलाफ पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया है। हनुमानगढ़ नगर परिषद के अग्निशमन अधिकारी की रिपोर्ट पर नगर परिषद को सवा 5 लाख की क्षति पहुंचाने के आरोप में हनुमानगढ़ टाउन थाने में यह मुकदमा किया गया है। पुलिस के अनुसार हनुमानगढ़ नगर परिषद के अग्निशमन अधिकारी अशोक कुमार शर्मा ने रिपोर्ट दर्ज कराई कि नगर परिषद की फायर बिग्रेड की गाड़ी आरजे 31 ई 0092 खराब हो गई थी। राज्य सरकार के निर्देशाुसार गाड़ी को लीलेंड कंपनी में ही मरम्मत के लिए ले जाया गया, क्योंकि गाड़ी वहीं से खरीदी गई थी। आयुक्त के निर्देशानुसार 21 अक्टूबर 2016 को दमकल कर्मी इस गाड़ी को श्रीगंगानगर में लीलैंड कंपनी के अधिकृत डीलर मैसर्स जीडी ऑटो सर्विस प्रा.लि. में चैक कराने के लिए ले गए। वहां गाड़ी को चैक करने के बाद बताया गया कि गाड़ी का इंजन नया लगाना पड़ेगा। रिपेयरिंग भी करनी पड़ेगी। आयुक्त के निर्देशानुसार 11 नवम्बर 2016 को नया इंजन लगाने एवं अन्य कार्य कराने के लिए जीडी ऑटो सर्विस को वर्क ऑर्डर दे दिया गया।
कुछ दिन बाद जीडी ऑटो सर्विस की ओर से ई-मेल के जरिए गाड़ी सही देने के बारे मेें सूचित किया गया। इस पर दमकल विभाग के ऑफिसर अशोक कुमार, चालक राजेश कुमार सुशील कुमार व श्योकत अली आदि ने कंपनी के बुलाने पर समय-समय पर गाड़ी चैक करने गए तो गाड़ी मेंं कमियां पाईं। जांच मेंं पाया गया कि गाड़ी में इंजन फिट था, उस पर कोई नम्बर नहीं थे, ग्राइंडर से मिटाए थे। गाड़ी चलाने पर स्पीड नहीं पकड़ती थी। अधिकत स्पीड साठ किमी ही रह जाती। गाड़ी बहुत धुआं छोड़ती थी। इस बारे मेें बताए जाने पर कंपनी ने उचित जवाब नहीं दिया। नगर परिषद से रुपए ऐंठने के लिए फर्जी सैकंड हैंड डिस्पोजल पुराना इंजन फिट कर दिया। गाड़ी की कोई रिपेयर नहीं की। नगर परिषद के आग्रह पर राज्य परिवहन निगम के मैकेनिकल इंजीनियर सुरेन्द्र सिंह ने गाड़ी की जांच कर इन बातों की पुष्टि की। रिपोर्ट के अनुसार बार-बार पत्र लिखने के बावजूद कंपनी गाड़ी ठीक करके नहीं दे रही। दस-ग्यारह महीने से गाड़ी को खुले में खड़ा कर रखा है, उसके टायर ट्यूब गर्मी में खत्म हो गए। कलर भी खराब हो गया। गाड़ी के असली कल पुर्जे खुर्द बुर्द कर दिए गए हैं। इससे नगर परिषद को सवा पांच लाख रुपए की क्षति हुई है। रिपोर्ट के आधार पर पुलिस ने धारा 420, 406 में मुकदमा दर्ज किया है। मामले की जांच सहायक उप निरीक्षक रामभज को सौंपी गई है।